fbpx
Home » सौंदर्यता » मुल्तानी मिट्टी का ये उपाय त्वचा को चमकाएँ | Multani Mitti

मुल्तानी मिट्टी का ये उपाय त्वचा को चमकाएँ | Multani Mitti

जब हमारी त्वचा काफी रूखी और बेजान हो जाती है, इसमें दाग धब्बे और बड़े-बड़े पोर्स निकल आते हैं और त्वचा की निखार छिन जाती है और चेहरा सावला पड़ने लगता है। आज की इस पोस्ट में हम All Ayurvedic के माध्यम से आपको मुल्तानी मिट्टी का एक ऐसा पेस्ट बनाना सिखाएंगे जिससे आपको इन सारी परेशानियों से छुटकारा मिल जाएगा और आपके चेहरे की रंगत में प्राकृतिक निखार आने लगेगा।

जैसा कि आप जानते है मुल्तानी मिट्टी एक ऐसा प्राकृतिक पदार्थ है जो त्वचा और बाल दोनों को स्वस्थ और सुंदर बनाये रखने में बहुत मदद करता है। मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग युगों से सौन्दर्य संबंधी उपचार के लिए किया जाता रहा है।

मुल्तानी मिट्टी प्रकृति का अनमोल वरदान है जो बाल और त्वचा संबंधी किसी भी समस्या से लड़ने में मदद करता है। मुल्तानी मिट्टी के लिए सबसे अच्छी बात यह होती है कि यह सस्ता होता है और आसानी से पाया जा सकता है। मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल भी आप बहुत ही सरल और सामान्य तरीके से अपने घर में कर सकते हैं।

खूबसूरती को निखारने व संवारने के लिए मुल्तानी मिट्टी का उपयोग शुरू से ही होता आया है। दरअसल, इसमें कई ऐसी क्वॉलिटीज हैं, जिन्हें अगर आप जान लें, तो इसे और बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर सकती हैं। जानिए इसके फायदों के बारे में

सांवली त्वचा के लिए पेस्ट तैयार करने की विधि :

इस पेस्ट को तैयार करने के लिए सबसे पहले आपको एक कटोरी में मुल्तानी मिट्टी ले लेनी है फिर उसमें एक चम्मच बेसन और एक चम्मच चंदन पाउडर डाल देना है। ध्यान रहे कि चंदन पाउडर सफेद रंग का हो क्योंकि इस नुस्खे में मुल्तानी मिट्टी और चंदन पाउडर ही खास सामग्री है।

अब इसमें गुलाब जल मिलाकर अच्छी तरह से एक स्मूथ पेस्ट तैयार कर लें। अब आइए जानते हैं इसे लगाना कैसे हैं। इस पेस्ट को लगाने से पहले अपनी त्वचा को रुई में गुलाब जल लगा कर अच्छी तरह से साफ कर लें। अब इस पेस्ट को नीचे से ऊपर की तरफ लगाना शुरु कर दें।

उपयोग करने का तरीका और इसके फायदे :

इससे यह होगा कि आपकी त्वचा लटकेगी नहीं बल्कि टाइट रहेगी। ध्यान रहे कि इसे त्वचा पर लगाने के बाद आपको बोलना नहीं है। 15 से 20 मिनट तक यूं ही रहना है फिर इसे ठंडे पानी से धो लेना है। इस नुस्खे को आप सप्ताह में तीन बार आजमाएं, आपको कमाल का फर्क देखने को मिलेगा।

मुँहासों के लिए मुल्तानी मिट्टी :

प्रदूषण और अपनी त्वचा की देखभाल अच्छी तरह से न करने के कारण चेहरे पर मुँहासे निकलने लगते हैं। मुल्तानी मिट्टी और नीम का पेस्ट मुँहासों का निकलना कम करने में मदद करता है।

पेस्ट बनाने और लगाने की विधि :

एक कटोरी में एक छोटा चम्मच नीम का पावडर या पेस्ट ले, उसमें दो छोटा चम्मच मुल्तानी मिट्टी, ज़रूरत के अनुसार गुलाब जल, एक चुटकी कपूर, और चार-पाँच लौंग को पीसकर बनाया हुआ पावडर डालकर पैक को बना लें। चेहरे पर मुँहासो वाली जगह पर पैक को अच्छी तरह से लगाकर दस से पंद्रह मिनटों तक लगाकर रखें। सूखने के बाद पानी से धो लें।

झुर्रियों के लिए मुल्तानी मिट्टी :

जब आप युवा अवस्था से वयस्क अवस्था में कदम रखने लगते हैं आपकी त्वचा अपनी रौनक खोने लगती है। लेकिन मुल्तानी मिट्टी का पैक इस समस्या से जल्द राहत दिलाने में मददगार साबित होता है।

पेस्ट बनाने और लगाने की विधि :

एक कटोरी में एक बड़ा चम्मच मुल्तानी मिट्टी के साथ समान मात्रा में दही लें और उसमें एक अंडा फोड़कर डालें। इस पैक को मुलायम बनाने के लिए अच्छी तरह से मिला लें। इस पैक को चेहरे पर लगाकर बीस मिनटों तक सूखने के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने गर्म पानी से धो लें। पैक को धोने के बाद आपको अलग ही तरह का ताजगी महसूस होगा।

मुल्तानी मिट्टी के फायदे | Multani Mitti Ke Fayde

स्किन को देती है शाइनिंग : मुल्तानी मिट्टी स्किन को क्लीन कर मिनटों में शाइनिंग देती है। दरअसल, इसमें मैग्नीशियम क्लोराइड होता है, जो स्किन पर आने वाली प्रॉब्लम्स से आपको निजात दिलाता है।

ऑयली स्किन के लिए फायदेमंद : अगर आपकी स्किन ऑयली है, तो आपके चेहरे के लिए मुल्तानी मिट्टी का पेस्ट सबसे फायदेमंद रहेगा। सुबह या शाम जब भी समय मिले, इसे तकरीबन पांच मिनट के लिए फेस पर लगा लें। इससे स्किन का ऑयलीपन खत्म हो जाएगा।

दरअसल, स्किन में ऑयल होने से त्वचा के रोम छिद्र बंद हो जाते है, जो कील-मुंहासे व दाने होने की खास वजह बनते हैं। यही नहीं, ऑयली स्किन के कारण कई बार ब्लैकहेड्स और वाइट हेड्स भी हो जाते है, परन्तु मुल्तानी मिट्टी के इस्तेमाल से यह समस्या आसानी से दूर हो जाती है।

मुंहासे से छुटकारा : मुल्तानी मिट्टी में पाए जाने वाले तत्व फेस से मुंहासे हटाने में आपकी मदद करते हैं। यही वजह है कि मुंहासों की समस्या या ऑयली स्किन पर इसका इस्तेमाल बहुत फायदेमंद माना जाता है।

कॉम्पलेक्शन : चेहरे पर टैनिंग हो तो मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल लाभकारी होता है। यह चेहरे की रंगत को निखार देती है परन्तु इसे लगाने से एक या दो दिन में तुरंत आराम नहीं मिलता है।

बल्कि इसका फायदा आपको 10 से 12 दिन बाद मिलना शुरू होता है। दरअसल, यह फायदा तो धीरे-धीरे करती है, लेकिन चेहरे पर इसका असर लंबे समय तक रहता है।

टेक्सचर : स्किन के टेक्सचर को इम्प्रूव करने में भी मुल्तानी मिट्टी बेहद काम आती है। अगर आपकी स्किन पर सफेद दाग हो या किसी प्रकार के धब्बे पड़ने लगें, तो मुल्तानी मिट्टी का उपयोग किया जा सकता है।

जिन लोगों को ड्राई स्किन की प्रॉब्लम है, वह भी मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन सर्दियों के दिनों में उन्हें इसके उपयोग से बचना चाहिए, वरना चेहरे पर ड्राइनेस आ सकती है। कुल मिलाकर, मुल्तानी मिट्टी सबसे अच्छी फेसपैक, क्लींजर और स्क्रब होती है।

कोई साइड इफेक्ट्स नहीं : मुल्तानी मिट्टी त्वचा से गंदगी साफ करने के लिए बहुत कारगर है और इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं।

ऑयली त्वचा है, तो इसे गुलाबजल के साथ त्वचा पर लगाएं और ड्राई स्किन है, तो इसे बादाम के पेस्ट के साथ मिलाकर कुछ मिनट मसाज करें। इससे ब्लड का फ्लो ठीक बना रहता है।
कैसे करें इस्तेमाल

पेस्ट के रूप में : मुल्तानी मिट्टी को सीधे चेहरे पर पेस्ट के रूप में भी लगाया जा सकता है। इसे लगाने से स्किन पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होता।

इसके ज्यादा फायदे पाने के लिए आप घर पर ही मुल्तानी मिट्टी में दही, क्रीम, नींबू का रस और गुलाब जल को बराबर मात्रा में मिक्स कर लें। इसे फेस पर लगाएं, आपकी स्किन को कई तरह से फायदा होगा।

क्लींजर के रूप में : मुल्तानी मिट्टी में पाया जाने वाला मैग्नीशियम क्लोराइड चेहरे पर क्लींजर के रूप में काम करता है। अगर मुल्तानी मिट्टी को रोजाना सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए तो इससे चेहरा तो क्लीन रहता ही है।

स्किन पर मुंहासे, पिंपल्स, झाइयां जैसी प्रॉब्लम्स भी पनप नहीं पाती हैं। यही नहीं, अगर आप इसे गाजर के जूस के साथ मिलाकर लगाती हैं, तो आप चेहरे के दाग-धब्बों से निजात पा सकती हैं।

नेचरल स्क्रबर : पिसे बादाम या संतरे के छिलके को पीसकर मुल्तानी मिट्टी के साथ मिला लें। इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट से दो से तीन मिनट फेस की मसाज करें। यह परफेक्ट स्क्रब का काम करता है।

यह पेस्ट फेस के ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स को तो क्लीन कर ही देता है, साथ ही स्किन भी हेल्दी बनती है। डेड सेल्स को खत्म कर यह स्किन को डीपली क्लीन करता है इसलिए यह कहना गलत न होगा कि त्वचा की नियमित देखभाल के लिए मुल्तानी मिट्टी का उपयोग बेहतर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *