Home » नाक » नाक के बाल क्यो नही काटने चाहिए

नाक के बाल क्यो नही काटने चाहिए

अक्सर लोग नाक के भीतर मौजूद बालो को बड़े ही बेरहमी से खींचकर या फिर कैंची से काटकर फैक देते है। तो आज हम इस पोस्ट में All Ayurvedic के माध्यम से आप लोगो को ये जानकारी देंगे की क्या ऐसा करना कहाँ तक उचित है, तो आओ जाने।

नाक के बाल को काटने या खींचने के हानिकारक प्रभाव :

कई लोग इस बात से बिलकुल भी अनजान होते है की नाक के बाल हमारे स्वास्थ के लिए कितना फायदेमंद होता है। नाक में मौजूद बाल जब भी हम सांस लेते है उस वक़्त नाक के द्वारा बैक्टीरिया, कीटाणु और प्रदूषणों को भीतर जाने से बचाता है। जिससे हम बीमार नहीं पड़ते क्योंकि की वह हवा को फिल्टर करने का काम करते है।

यदि नाक के बाल को काट दिया जाए तो बैक्टीरिया, किटाणु और कई प्रदूषित कण सीधे नाक के भीतर प्रवेश कर सकते है। जिससे हमे फेफड़ो के इन्फेक्शन्स की शिकायत बढ़ जायेगी। नाक के भीतर जाने वाले हवा को नाक का बाल फ़िल्टर करता है और शुद्ध हवा हमारे शरीर में जाती है जिससे हम बीमार नहीं पड़ते है।

जिस वजह से नाक के बाल को काटना उचित नहीं है। एक रिपोर्ट के अनुसार जो लोग नाक के बालों को साफ करते है उन्हें श्वास और फेफड़ो से संबंधित रोग होने के आसार बढ़ जाते है। इस लिए मॉडर्न जीवन के चक्कर मे अपने स्वास्थ्य के साथ नाइंसाफी ना करे।

कुछ लोग नाके बाल हाथों से खिंच कर उखाड़ देते है यह बहुत ही नुकसान दायक होता है क्योंकि इससे आपके आंखों की रोशनी कमजोर हो जाती है इसलिए आप कभी भूलकर भी नाक के बाल ना उखाड़े।

नाक में होने वाले सभी रोगों से निजात पाने के घरेलु उपाय 

नाक में चोट लग जाने से या किसी प्रकार के संक्रामक रोग से अथवा सिर की गर्मी से अक्सर नाक से खून निकलने लगता है। बच्चों में यह बीमारी अधिकांश देखी जाती है। नाक के सभी विकारो और रोगों से निजात पाने के लिए आज हम All Ayurvedic के माध्यम से आपको कारगर घरेलु उपाय बताएँगे।

नाक के रोगों से निजात पाने ले घरेलू उपाय

सबसे पहले रोगी को सीधा लिटाकर ठन्डे पानी से सिर धोएं। उससे खून निकलना बंद होगा।

धनिये के पत्तों का रस या प्याज़ का रस नाक में डालने से खून निकलना बंद हो जाता है।

आंवला पीसकर घी में भूनें और नाक पर लेप करें।

दूध में केला मथकर खाने से काफी लाभ होता है।

रात में भिगोई हुई मुल्तानी मिटटी का लेप नाक पर लगाने से नकसीर बंद होती है।

नींबू के रस में थोड़ा आंवले का रस मिलाकर नाक में डालने से नकसीर बंद होती है।

केले के पत्तों का रस नाक में डालने से अथवा अनार के छिलकों का रस नाक में डालने से नकसीर बंद होती है।

नकसीर रोगी को छाछ और दही की लस्सी पिलाने से आराम मिलता है।

प्याज़ के रस को गरम करके नाक में डालने से आराम मिलता है।

हरे धनिया के पत्तों के रस में थोड़ा सा कपूर मिलाकर 2-2 बूँद नाक में डालने से आराम मिलता है।

आंवला तथा मुलहठी को बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बनाएं और गाय के दूध के साथ सुबह- शाम 1-1 चम्मच सेवन करें।

नाक के बाहर फिटकरी का लेप लगाने से भी नकसीर बंद होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *