fbpx

बैठ कर पानी पीने के फायदे

सभी जानते है कि पानी हमारे शरीर के लिए सबसे जरूरी है। शरीर की सभी बायलॉजिकल क्रियाएं सही ढंग से होती रहें इसके लिए जरूरी है कि हमारा शरीर हाइड्रेटेड रहे और बॉडी को हाइड्रेटेड रखने का सबसे अच्छा तरीका पानी।

इंसान के शरीर का 70 फीसदी हिस्सा पानी से बना होता है, वैसे तो आपने भी अक्सर बड़े-बुजुर्गों के मुंह से यह बात सुनी होगी कि हमें खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए, लेकिन क्या आप इसकी वजह जानते हैं, अगर नहीं तो हम बताते है खड़े होकर पानी पीने से सेहत को कितना नुकसान होता है।

आयुर्वेद के मुताबिक जब हम खड़े होकर पानी पीते हैं तो पेट की दीवारों पर जरूरत से ज्यादा प्रेशर पड़ता है क्योंकि जब हम खड़े होकर पानी पीते हैं तो पानी भोजन-नलिका से सीधे पेट में पहुंच जाता है जिससे वह पेट के आसपास के हिस्से को नुकसान पहुंचा सकता है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि खड़े होकर पानी पीने के दौरान पानी के पोषक तत्व शरीर द्वारा अब्सॉर्ब नहीं हो पाते और इन पोषक तत्वों को शरीर अस्वीकार कर देता है। ऐसा अगर बार-बार होता है तो इससे पाचन तंत्र की फंक्शनिंग प्रभावित होती है।

जब हम खड़े होकर पानी पीते हैं तब पानी बिना किडनी से छने सीधे बह जाता है। इससे किडनी और मूत्राशय में गंदगी रह जाती है जिससे मूत्रमार्ग में संक्रमण या फिर किडनी की बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है।

पानी पीने का तरीका और शरीर के पॉस्चर यानी मुद्रा का आपस में गहरा संबंध है। खड़े होकर पानी पीने के दौरान उत्पन्न होने वाले हाई प्रेशर का असर शरीर के संपूर्ण बायलॉजिकल सिस्टम पर पड़ता है जिससे जोड़ों में दर्द की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है। इसके अलावा खड़े होकर पानी पीने से शरीर के जोड़ों में मौजूद तरल पदार्थों का संतुलन बिगड़ जाता है, जिससे आर्थराइटिस की समस्या जन्म लेती है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि खड़े होकर पानी पीने से फेफड़ों को भी नुकसान होता है। दरअसल, जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं तो फूड पाइप यानी भोजन-नलिका और विंड पाइप यानी श्वसन नलिका में ऑक्सिजन की कमी हो जाती है। अगर ऐसा बार-बार होता है यानी अगर आप नियमित रूप से खड़े होकर ही पानी पीते हैं तो इससे फेफड़े और हृदय रोग होने का खतरा रहता है।

यही वजह है कि पानी हमेशा बैठकर पीना चाहिए। बैठकर पानी पीने के दौरान पानी का फ्लो धीमा रहता है, शरीर पानी को आसानी से डाइजेस्ट कर पाता है और शरीर की तंत्रिकाएं रिलैक्स्ड रहती हैं। जब पानी का प्रेशर शरीर में तेज होता है तो तंत्रिकाएं में प्रेशर बढ़ जाता है।

यह तो हम सभी जानते हैं कि पूरे दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए कितना जरूरी होता है। लेकिन आपको यह नहीं पता होगा कि जिस पोजीशन में आप पानी पीते हैं उसका भी आपकी सेहत पर असर पड़ता है। आपके बड़े-बुजुर्ग हमेशा से कहते आए होंगे कि बैठ कर शांति से पानी पीना चाहिए।

इसका कारण ये है कि बैठने पर हमारी मांसपेशियां और नर्वस सिस्टम रिलेक्स हो जाते हैं और ऐसी स्थिति में धीरे-धीरे पानी पीने से शरीर को फायदा होता है। वहीं कई लोग जल्दबाजी में खड़े होकर व चलते-फिरते ही फटाफट गटक कर पानी पी जाते हैं।

हमे पानी को हमेशा बैठकर धीरे-धीरे करके पीना चाहिए मतलब कि घूँट-घूँट भरके पीना चाहिए। अगर हम इस तरह बैठकर घूँट-घूँट करके पानी पीते हैं तो उसका एक सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि हमारे हर घूँट में मुँह की लार पानी के साथ घुलकर हमारे पेट में जायेगी और पेट में बनने वाले अम्ल को शान्त करेगी। हमारी लार क्षारीय और बेहद मूल्यवान होती है। हमारे पित्त को संतुलित करने में ये क्षारीय लार बहुत मददगार साबित होती है।

जब भी हम खाना चबाते हैं तो वो हमारी लार में ही लुगदी बनकर हमारी आहार नाली के जरिये अमाशय में आता है और वहां जाकर वो पित्त के साथ मिलकर हमारी पाचन क्रिया को पूरा करता है। इसलिए मुँह की लार ज्यादा से ज्यादा पेट में जानी चाहिए जिसके लिए हमें पानी धीरे-धीरे घूँट-घूँट भरके बैठकर पीना चाहिए।

व्यक्ति को कभी भी खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए। ऐसा करने पर घुटनो के दर्द से बचा जा सकता है। कभी भी घर के बाहर से वापिस आने पर जब शरीर गर्म होता है या सांस तेज चल रही हो तो थोड़ा सा रूककर जब शरीर का तापमान ठीक हो जाए तभी पानी पीना चाहिए। खाना खाने से कम से कम डेढ़ घंटा पहले पानी जरूर पीलें, इससे खाना खाते वक़्त प्यास नहीं लगेगी।

सुबह-सुबह उठते ही सबसे पहले बासे मुँह, बिना मुँह धोये या ब्रश किये कम से कम एक गिलास पानी जरूर पीलें। इस से ये लाभ होगा कि रात भर में हमारे मुँह में जीवाणुनाशक लार बनती है, वो सुबह पानी के साथ हमारे पेट में जाकर हमारी पाचन तंत्र को बिमारी से मुक्त करता है।

सुबह उठते ही मुँह की बासी लार आँखों में लगाने से आँखों की रोशनी और काले घेरों के लिए फायदेमंद होती है। रोजाना कम से कम 4 लीटर पानी जरूर पीयें। किडनी में पथरी न बनें, इसके लिए ये जरुरी है कि ज्यादा से ज्यादा मात्र में पानी पीयें और जितनी अधिक मात्र में हो सके मूत्र त्याग करें।

कितना पानी पीना चाहिए ?

आयुर्वेद के अनुसार अपने शरीर के वज़न के 10वें भाग में से 2 को घटाने पर मिली हुयी मात्र के बराबर पानी पीना चाहिए। उदाहरण के तौर पर अगर आपका वज़न 70 किलो है तो उसका 10वा भाग होगा 7 और उसमे से 2 घटाने पर मिलने वाली मात्र 5 लीटर होगी।

इससे होने वाला फायदा जैसे कब्ज, अपच आदि जैसी बीमारियों के लिए पानी रामबाण इलाज है, इसके साथ ही ये मोटापा कम करने में भी सहायक होता है। जिन व्यक्तियों को अधिक पित्त बनता है, उनको भी इससे फायदा अवश्य होगा।

खड़े होकर पानी पीने के नुकसान

जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं तो, तब इसोफेगस के जरिए प्रेशर के साथ पानी पेट में तेजी से पहुंचता है। इससे आपके पेट पर अधिक प्रेशर पड़ता है।

प्रेशर पड़ने से पेट व आसपास की जगह और डाइजेस्टिव सिस्टम को नुकसान पहुंचता है।

पानी प्रेशर के साथ पेट में जाता है तब सभी इंप्योरिटीज ब्लैडर में जमा हो जाती हैं, जो किडनी को गंभीर नुकसान पहुंचा सकती है।

पानी के प्रेशर से शरीर के पूरे बायोलॉजिकल सिस्टम पर प्रभाव पड़ता है।

खड़े होकर पानी पीने से फेफड़ों पर भी बुरा असर पड़ता है क्योंकि इससे हमारे फूड पाइप और विंड पाइप में ऑक्सीजन की सप्लाई रूक जाती है।

जो लोग हमेशा ही खड़े होकर पानी पीते है उन्हें फेफड़ों के साथ-साथ दिल संबंधी बीमारी होने की संभावना अधिक होती है।

खड़े होकर पानी पीने से प्यास ठीक से नहीं बुझती और तृप्ति का एहसास नहीं होता। इसे कारण से आपको बार-बार प्यास लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!