fbpx
Home » भारतीय संस्कृति वैज्ञानिक रहस्य » राशि अनुसार करे यह उपाय, होगी हर मनोकामना पूरी

राशि अनुसार करे यह उपाय, होगी हर मनोकामना पूरी

सभी को पता है कि आज श्रावण कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि और सोमवार का दिन है। आज पूर्व भाद्रपद नक्षत्र है जो सुबह 10 बजकर 24 मिनट तक रहेगा। इसके बाद उत्तरभाद्रपद नक्षत्र शुरू हो जाएगा। लिहाज़ा श्रावण मास के पहले सोमवार पर आज 2 अलग-अलग नक्षत्र होंगे।

इस श्रावण मास में आने वाला हर सोमवार बेहद विशेष होता है और आज पहला सोमवार है। इस दिन शिव के निमित्त कुछ खास उपाय करने से विशेष फलों की प्राप्ति होती है। लेकिन सावन के सोमवार का व्रत खासतौर से कुंवारी कन्याओं के लिए काफी फलदायी माना जाता है।

इस व्रत को करने से उन्हे एक श्रेष्ठ जीवनसाथी मिलता है। इसके साथ ही अगर आप सोलह सोमवार के व्रत शुरू करने के बारे में लंबे समय से सोच रहे थे तो आज का दिन इस व्रत को शुरू करने के लिए सबसे शुभ है। जो भी सावन महीने के सोमवार का व्रत करता है उन्हे मनोवांछित फल की प्राप्ति ज़रूर होती है।

वर्ष 2019 में सावन मास में चार सोमवार पड़ेंगे, जो बहुत ही अद्भुत संयोग है। सावन में दो सोमवार कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष में पंचमी तिथि को रहेगा। इनमें से दो सोमवार के साथ प्रदोष व्रत का भी संयोग बनेगा। कृष्ण पक्ष में और शुक्ल पक्ष में पंचमी तिथि में सोमवार होने से भगवान शिव की पूजा बेलपत्र और दूध से अभिषेक करने से किसी भी तरह का दोष समाप्त होता है। रोगों से छुटकारा मिलता है, पितृदोष से मुक्ति मिलती है और रोजगार से सम्बंधित बाधाओं में समाधान मिलता है।

क्या है सोम प्रदोष व्रत का महत्व

सोम प्रदोष में भगवान शिव का अभिषेक रुद्राभिषेक और उनका श्रृंगार करने का बहुत ही महत्व है। सोम प्रदोष वाले दिन महादेव की पूजा अर्चना से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। लड़का या लड़की की शादी-विवाह की अड़चनें दूर होती है। संतान की इच्छा रखने वाले लोगों को इस दिन पंचगव्य से महादेव का अभिषेक करना चाहिए। जिन्हें लक्ष्मी प्राप्ति और कारोबार मे सफलता की कामना हो, उन्हें दूध से अभिषेक करने के बाद शिवलिंग पर फूलों की माला अर्पित करनी चाहिए। इस पूजा से उन्हें प्रत्येक काम में सफलता प्राप्त होगी।

इस सावन का पहला सोमवार

इस सावन में चारों सोमवार अति विशेष है। सोमवार का व्रत करते हुए महादेव की पूजा आराधना करने से कल्याणकारी होगा। सावन का प्रथम सोमवार 22 जुलाई को है। इस दिन रुद्राभिषेक करने से संतान सुख में बाधा नहीं आती है। जिन लोगों की कुंडली में पितृदोष या कालसर्प योग है, उन्हें इस पूजन से शांति मिलेगी।

इस सावन का दूसरा सोमवार

इस सावन मास को दूसरा सोमवार 29 जुलाई को है। इस दिन सोम प्रदोष व्रत भी रहेगा। इस दिन के रुद्राभिषेक से मानसिक अशांति, गृह क्लेश और स्वास्थ्य संबंधी चिंता दूर हो जाएगी।

इस सावन का तीसरा सोमवार

इस तीसरा सोमवार अद्भुत मुहूर्त में आ रहा है जो कि पांच अगस्त को पड़ेगा। यह दिन सावन के श्रेष्ठ मुहूर्तों में एक है। इस दिन पूर्णा तिथि है। सोम का नक्षत्र हस्त भी विद्यमान है और सिद्धि योग के साथ-साथ वर्ष की श्रेष्ठ पंचमी यानी नाग पंचमी भी है।

इस सावन का चौथा सोमवार

इस सावन का चौथा और अंतिम सोमवार 12 अगस्त को है। इस दिन भी सोम प्रदोष व्रत है। इस दिन शिव-पार्वती साथ-साथ पृथ्वी पर विचरण करेंगे। अत: इस दिन रुद्राभिषेक करने से सारे मनोरथ सफल होंगे।

सावन के पहले सोमवार पर इन मंत्रों के साथ कौन से वो विशेष उपाय करें जिससे आपको शुभ फलों की प्राप्ति हो सके। जानें इस बारें में आचार्य इंदु प्रकाश से।

मेष राशि : आज सावन का सोमवार बेहद शुभ फलदायी है। अपनी जिंदगी में खुशहाली के लिए आज आपको शिवलिंग पर सफेद फूल अर्पित करने चाहिए। इसके अलावा आपको आज अघोर मंत्र का 11 बार जाप करना है। ये मंत्र है –
ऊं अघोरेभ्यो अथ घोरेभ्यो, घोर घोर तरेभ्यः
सर्वेभ्यो सर्व शर्वेभ्यो, नमस्ते अस्तु रूद्ररूपेभ्य।
वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार मेष राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

वृष राशि : अगर आप अपने दाम्पत्य संबंध में प्रेम बनाए रखना चाहते हैं तो आज शिवलिंग पर गन्ने के रस से अभिषेक करना चाहिए। इसके साथ ही आपको पूरे श्रावण मास भगवान शिव के इस मंत्र का जाप करना चाहिए। ये मंत्र है – ‘ऊँ शं शंकराय भवोद्भवाय शं ऊँ नमः’।।
वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार वृष राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

मिथुन राशि : अगर आप चाहते हैं कि आप हर वक्त गुड फील करते रहे तो आज भोलेनाथ को तांबे का पत्ता अर्पित करें। साथ ही आपको भगवान शिव के ‘ऊँ शिवाय नमः ऊँ’।। मंत्र का 108 बार जाप भी करना चाहिए। वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार मिथुन राशि वालों के लिये ही ये
उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

कर्क राशि : अगर आप चाहते हैं कि आपका बिजनेस नई ऊँचाईयों को छूए और सफलता के नए आयाम स्थापित करें तो आज भगवान शिव को चावल अर्पित करें। साथ ही आज आपको ‘ऊँ शं शिवाय शं ऊँ नमः’।। के मंत्र का जाप भी करना चाहिए। वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार कर्क राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

सिंह राशि : अगर आप किसी नये ज्ञान की प्राप्ति करना चाहते हैं, तो आज भगवान शिव के सामने घी का दीपक जलाकर पूजा अर्चना करें। इसके साथ ही आप शिव शंभू के इस मंत्र का 21 बार जाप भी करें। ये मंत्र है-
‘नमामिशमीशान निर्वाण रूपं
विभुं व्यापकं ब्रह्म वेद स्वरूपं’।।
वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार सिंह राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

कन्या राशि : अगर मन हमेशा अशांत रहता है तो आज अपने चित को शांत रखने के लिए आप भगवान शंकर के निमित्त एक खास उपाय कर सकते हैं। इसके लिए आपको शिवलिंग का दूध से अभिषेक करना है। साथ ही आपको शिवजी के त्र्यम्बकं मंत्र का जाप 31 बार करना चाहिए। ये मंत्र इस प्रकार है।
‘ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥‘
वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार कन्या राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं ।

तुला राशि : दाम्पत्य संबंधों को और भी मजबूत बनाने के लिए आज आप शिवलिंग का शहद से अभिषेक करें। साथ ही शिव के इस मंत्र का 51 बार जाप करें। ‘ऊँ शं भवोद्भवाय शं ऊँ नमः’।। इससे आपका रिश्ता बिना किसी उतार चढ़ाव के Smoothly आगे बढ़ता रहेगा। वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार तुला राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं ।

वृश्चिक राशि : अगर आपको किसी से प्यार है और उन्हे बनाना चाहते हैं अपना जीवनसाथी तो ये उपाय आपके लिए कारगर साबित हो सकता है। आप एक लोटा जल लेकर उसमें शहद की एक बूंद डालें इसके बाद इस जल से शिवलिंग का अभिषेक करें। साथ ही शिवजी के इस मंत्र का जाप 11 बार करें जो आपके लिए फायदेमंद साबित होगा।
‘निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं।
चिदाकाशमाकाश वासं भजेऽहं’।।
वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार वृश्चिक राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं ।

धनु राशि : आज के दिन भगवान शंकर को चंदन अर्पित करें। आपकी वो हर इच्छा पूरी होगी जो आपके मन में है। साथ ही आपको भगवान शंकर के इस मंत्र का जाप भी करना है। ‘ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं आं शं शंकराय मम सकल जन्मांतरार्जित पाप विध्वंसनाय श्रीमते आयुःप्रदाय, धनदाय, पुत्रदारादि सौख्य प्रदाय महेश्वराय ते नमः कष्टं घोर भयं वारय वारय पूर्णायुः वितर वितर मध्ये मा खण्डितं कुरु कुरु सर्वान् कामान् पूरय पूरय शं आं क्लीं ह्रीं ऐं ऊँ’ सम संख्याम सावित्रीम् जपेत्- ॐ तत्पुरुषाय च विद्महे महादेवाय च धीमहि तन्नो रुद्र प्रचोदयात ।।
वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार धनु राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

मकर राशि : नौकरी से संबंधित कोई परेशानी है या फिर नई नौकरी की तलाश है तो आज शिवलिंग पर शमी पत्र अर्पित करें। इसके साथ ही आपको‘ऊँ शं विश्वरूपाय अनादि अनामय शं ऊँ’।। इस मंत्र का जाप 111 बार करना है। इससे आपकी नौकरी संबंधित सभी परेशानियों का हल होगा। वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार मकर राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

कुंभ राशि : आज आप गोले से बनी किसी मिठाई से भोलेनाथ को भोग लगाएं। और ‘ऊँ क्लीं क्लीं क्लीं वृषभारूढ़ाय वामांगे गौरी कृताय क्लीं क्लीं क्लीं ऊँ नमः शिवाय’।। इस मंत्र का 21 बार जाप करें। आपकी सुख समृद्धि में बढ़ोतरी निश्चित रूप से होगी। वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार कुंभ राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

मीन राशि : अगर आप जिंदगी में मिल रही तरक्की से खुश हैं और उस सफलता को बरकरार रखना चाहते हैं तो शिवलिंग पर बेलपत्र और धतूरा चढ़ाएं। साथ ही शिव के इस मंत्र का जाप करें।
‘ऊँ शं शं शिवाय शं शं कुरु कुरु ऊँ’।। वैसे तो आज की ग्रह-नक्षत्र स्थिति के अनुसार मीन राशि वालों के लिये ही ये उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी इसका फायदा उठा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *