fbpx
Home » प्रोटीन की कमी » प्रोटीन की कमी के लक्षण | Protein Deficiency Symptoms

प्रोटीन की कमी के लक्षण | Protein Deficiency Symptoms

आमतौर पर लोग शरीर में प्रोटीन की कमी को नजरअंदाज कर देते हैं। लेकिन इसे नजरअंदाज करना आपके लिए खतरे से खाली नहीं है। शरीर में प्रोटीन की कमी कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। अगर आप इन पर ध्यान नहीं देंगे तो ये किसी बड़ी बीमारी का कारण बन सकती है।

प्रोटीन की कमी से होने वाली बीमारियों के बारे में जानिए। शरीर को फिट रखने के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी होता है। प्रोटीन से आपकी मांसपेशियां तो मजबूत होती ही हैं साथ ही उचित प्रोटीन मिलने से आपके शरीर की सभी जरूरतें लगभग पूरी हो जाती है।

आज हम आपको All Ayurvedic के माध्यम से जो लक्षण बताने जा रहे हैं अगर ये लक्षण आपको आपके शरीर में दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से उचित परामर्श ले क्योंकि यह सारे लक्षण शरीर में प्रोटीन की कमी को दर्शाते हैं और आज हम आपको प्रोटीन की कमी दूर करने के भी उपाय बताएंगे।

शरीर को रोजाना कितने प्रतिशत प्रोटीन की जरूरत होती है

प्रोटीन की आवश्यकता आपके भार और आपके कैलोरी इनटेक पर निर्भर करती है. आपकी कुल कैलोरी का 20 से 35 प्रतिशत प्रोटीन से आना चाहिए. अगर आप प्रतिदिन 2,000 कैलोरी का सेवन करते हैं तो उसमें से 600 कैलोरी प्रोटीन से आना चाहिए।

प्रोटीन की कमी के लक्षण | Protein Deficiency Symptoms

जोड़ों में दर्द – अगर आपकी मांसपेशियों या घुटनों में दर्द रहता है तो यह प्रोटीन की कमी के कारण हो सकता है। क्योंकि उचित मात्रा में प्रोटीन न मिल पाने के कारण हमारे शरीर में जोड़ों में मौजूद तरल पदार्थ पूरी तरह से नहीं बन पाता जिसकी वजह से हमें यह समस्याएं हो सकती हैं। प्रोटीन की कमी का सीधा असर जोड़ों के दर्द के रूप में देखने को मिलता है। प्रोटीन की कमी से जोड़ों में दर्द होने के साथ-साथ मांसपेशियों में अकड़न की समस्या आती है। इससे आर्थराइटिस जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा होता है। प्रोटीन की कमी से बच्चों का सही ढंग से विकास नहीं हो पाता।

हिमोग्लोबिन की कमी – शरीर में प्रोटीन की कमी के कारण सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या में कमी आ सकती है। और हिमोग्लोबिन भी कम हो जाता है। जिससे आपके शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है।

हर वक्त थकान – प्रोटीन की कमी से शरीर में कमजोरी बनी रहती है। बॉडी हमेशा थका हुआ फील करती है। इतना ही नहीं प्रोटीन की कमी से शारीरिक थकावट ही नहीं बल्कि मानसिक थकावट भी होती है।

ब्लड शुगर का लेवल – अगर आप थोड़ा सा भी शारीरिक श्रम करने से थक जाते हैं और आपको बार बार भूख लगती है तो ऐसा प्रोटीन की कमी के कारण हो सकता है क्योंकि प्रोटीन की कमी से रक्त में शर्करा का स्तर कम हो जाता है जिसके कारण यह समस्या उत्पन्न होती है।

बार-बार बीमार होना – अगर आप बार बार बीमार पड़ रहे हैं और शारीरिक दर्द की समस्या से गुजरना पड़ रहा है तो ऐसा प्रोटीन की कमी के कारण हो सकता है क्योंकि आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो चुकी है। उचित प्रोटीन ना मिल पाने के कारण।

नाखूनों कमजोर होना – प्रोटीन की कमी का असर बाल और नाखूनों पर भी दिखता है। इसलिए प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा शरीर की सुंदरता के लिए जरूरी है। प्रोटीन की कमी से बाल झड़ते हैं और नाखून कमजोर हो जाते हैं।

बालो का झड़ना – अगर आपको बाल झड़ने की समस्या हो रही है तो ऐसा प्रोटीन की कमी के कारण हो सकता है। क्योंकि शरीर को उचित प्रोटीन न मिल पाने के कारण ऐसा हो सकता है।

घाव भरने में देरी – प्रोटीन की कमी से शरीर के घाव जल्दी से नहीं भरते और गंभीर चोट ज्यादा दिनों तक नुकसान पहुंचाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रोटीन शरीर में नए सेल्स, टिशू और स्किन का निर्माण करता है और इसकी कमी से इनका निर्माण रुक जाता है, जिसके कारण घाव जल्दी नहीं भरते।

इन चीजों में पाया जाता है प्रचुर मात्रा में प्रोटीन

दूध, पनीर और दही सिर्फ प्रोटीन के अच्छे स्त्रोत ही नहीं हैं, बल्कि कैल्शियम और विटामिन डी के भी अच्छे स्त्रोत हैं. अपनी रोजाना की डाइट में एक गिलास कम वसा वाला दूध लें. दूध में दो तरह का प्रोटीन होता है. कुल प्रोटीन का 80 प्रतिशत कैसीन और बचा हुआ 20 प्रतिशत व्हे होता है।

प्रोटीन का सबसे अच्‍छा स्‍त्रोत बीन्‍स बीन्‍स प्रोटीन के साथ ही फाइबर के भी बेहतरीन स्त्रोतों में से एक हैं।

अखरोट प्रोटीन का एक अच्छा स्‍त्रोत है. इसमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स विशेषकर बी6 और कईं मिनरल जैसे आयरन, मैग्नीशियम, कॉपर और जिंक भी काफी मात्रा में होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *