fbpx
Home » दुबलापन » दूध में खजूर उबालकर पीने के फायदे

दूध में खजूर उबालकर पीने के फायदे

नमस्कार मित्रों आज हम All Ayurvedic के माध्यम से आपको दूध और खजूर के फायदों के बारे में बताएंगे। दूध और खजूर की अगर बात करें तो, दोंनो ही हमारे शरीर के लिये किसी अमृत से कम नहीं हैं। यदि बात करें खजूर की तो अरब देशों में पैदा होने वाला स्वादिष्ट खजूर एक पौ‍ष्‍टिक मेवा है जो सेहत की दृष्टि से बहुत गुणकारी है।

वैसे खजूर में 60 से 70 प्रतिशत तक शर्करा होती है। इसमें आयरन, कैल्‍शिम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, मैंगनीज, तांबा आदि जैसे पोषक तत्‍व भरे पड़े रहते हैं।

खजूर के गुण तो आप जान गए लेकिन आप इस बात को जान कर हैरान हो जाएंग कि अगर अकेले खजूर में इतने फायदे होते हैं तो अगर इसे दूध के साथ पका कर खाया जाए, तो कितना सारा फायदा हो सकता है। जी हां, दूध और खजूर आपके जीवन की सारी बीमारियां कुछ ही दिनों में दूर कर सकता है।

इसके लिए आपको करना सिर्फ इतना है कि रोज़ाना सोने से पहले एक गिलास दूध में 2-3 खजूर को भिगो कर पका लें। फिर इसे कूंट कर दूध के संग की पी जाएं। यह ड्रिंक अपने बच्‍चों को नियमित पिलाएं क्‍योंकि इससे उनका दिमाग तो तेज होगा ही साथ में उनको दौड़ने भागने की शक्‍ति भी मिलेगी।

दूध और खजूर सेहत बनाने में रामबाण 

दूध और खजूर अकेले ही ताकत के भरपूर स्रोत हैं और इनका शेक तो सेहत के लिए खजाना ही हैं। ग्लूकोज और फ्रक्टोज से भरपूर खजूर एनर्जी बूस्ट करने का बेस्ट सोर्स होता है। एक्सपर्ट के अनुसार खजूर का दूध नाश्ते के साथ लेना ज्यादा फायदेमंद होता है। इसमें डाले जाने वाले खजूर की मात्रा व्यक्ति के डाइजेशन पर डिपेंड करती है।

दूध और खजूर अकेले ही ताक़त के भरपूर स्रोत है। आज हम आपको बताएंगे कि दूध के साथ खजूर खाने से आपको क्या लाभ मिल सकते है। यदि आप कुछ दिनो तक सोते वक़्त दूध में खजूर का सेवन करेंगे तो आपको इसकी ताक़त का अंदाज़ा लग जाएगा, आप एक अलग ही ऊर्जा को अपने शरीर में महसूस करेंगे।

बनाने की विधि

इसके लिए आप 1 गिलास दूध में 5 खजूर डालकर धीमी आंच पर पकाएं। 10 मिनट तक पकने दे और फिर आंच से उतार लीजिये और फिर गुनगुना करके पीए, इससे नाश्ते में लेना फायदेमंद होता है। ये खून की कमी को पूरा करता है, त्वचा को निखरता है, दिमाग को भी तेज करता है तथा दाँतो के लिए फायदेमंद है ये खजूर वाला दूध।

दूध और खजूर फायदे | Milk & Dates

बॉडी बनाये : इसमें अच्छा खासा प्रोटीन होता है जो मसल्स बिल्डिंग में मदद करता है।

एनीमिया : दूध और खजूर में मौजूद आयरन खून की कमी यानी एनीमिया से बचाने में कारगर साबित होता है।

खूबसूरती बढ़ाए : दूध में खजूर मिलाकर पीने से ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है, जिससे त्वचा निखरती है।

ब्रेन पावर : इस ड्रिंक में विटामिन बी 6 होता है, जो दिमाग तेज करने में मदद करता है। इससे मेमरी भी तेज होती है।

मजबूत दांत : इस ड्रिंक में फास्फोरस होता है जो दांतों को मजबूत रखता है। मसूड़ों के लिए भी यह लाभदायक है।

मर्दाना कमजोरी : इसमें ग्लूकोज, फ्रक्टोज की मात्रा अधिक होती है। ऐसे में इससे बॉडी को फौरन एनर्जी मिलती है और मर्दाना ताकत बढ़ती है।

पाचन क्रिया : इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है जो डाइजेशन के लिए फायदेमंद होता है। इसे पीने से कब्ज की दिक्कत दूर होती है।

कॉलेस्ट्रॉल : इसमें कॉलेस्ट्रॉल नहीं होता जो दिल को हेल्दी बनाकर रखता है।

जोड़ो का दर्द : दूध और खजूर दोनों में कैल्शियम होता है जो जोड़ों के दर्द से निजात दिलाता है।

कब्ज़ में स्थाई आराम : कब्ज़ का मुख्य कारण होता है आँत में खुश्की होना और खजूर आँतों की खुश्की को पूरी तरह से खत्म करता है । खजूर के द्वारा कब्ज़ को पूरी तरह खत्म करने के लिये रोज सुबह दो-तीन खजूर को एक कटोरी ताजे पानी में डुबोकर रख दीजिये और रात होने तक रखा रहने दीजिये । रात को सोते समय इन खजूरों को खूब चबा चबा कर खा लीजिये । यह प्रयोग 7-15 दिनों तक लगातार कीजिये ।

वजन बढ़ानें में लाभकारी : खजूर में सभी पोषक तत्व तो पाये ही जाते हैं इसके अतिरिक्त यह कैलोरी और ग्लुकोज़ का भी बहुत अच्छा स्रोत है जिस कारण से यह दुबले-पतले लोगों में वजन बढ़ाने का काम कर सकता है । वजन बढ़ाने का लाभ उठाने के लिये14 साल से अधिक उम्र के लोग रोज पूरे दिन में 10-12 खजूर खूब चबा चबा कर खायें।

भरपूर ऊर्जा देता है : खजूर में शरीर को तुरंत ऊर्जा देने की प्राकृतिक शक्ति होती है क्योंकि इसमें शुगर अधिक मात्रा में पायी जाती है । यह शुगर ग्लुकोज़ और फ्रक्टोज़ दोनों ही रूप में उप्लब्ध होती है । इस कारण से जब भी शरीर को अधिक ऊर्जा की जरूरत हो तो 2-3 खजूर खाकर ऊर्जा प्राप्त की जा सकती है।

नाड़ीतंत्र को मजबूत करे : शरीर का नाड़ीतंत्र सबसे ज्यादा उलझे हुये तंत्रों में माना जाता है । सम्पूर्ण शरीरेंद्रियों का मस्तिष्क के साथ सम्पर्क मुख्यतः नाड़ीतंत्र के द्वारा ही सम्भव हो पाता है । खजूर नाड़ीतंत्र का परम मित्र सिद्ध होता है । खजूर में उपलब्ध पोटाशियम नाड़ीतंत्र के लिये बहुत जरूरी होता है । साथ ही साथ यह रक्त्चाप को नियमित रखता है और हृदय को भी मजबूत करता है।

खून की कमी दूर करे : खजूर में शरीर के लिये लाभकारी और शरीर द्वारा आसानी से स्वीकार किया जाने वाला ऑयरन तत्व पाया जाता है। अतः खून की कमी से परेशान लोगों के लिये खजूर वास्तव में किसी वरदान से कम नही है । रक्ताल्प्तता के रोगियों के लिये रोज दो बार 2-2खजूर खाना पर्याप्त होता है।

शरीर में शक्ति : दो खजूर को दूध में उबालकर खाने से और साथ में वही दूध पीने से शरीर में शक्ति का संचार होता है।

हृदय रोग : हृदय रोगी यदि 4-5 खजूर रोज खायें तो यह उनकी रक्तवाहीनियों में रक्त का संचार सरल होता है जिससे रक्तसंचार के अवरोध होने से हृदय रोग की भावना नष्ट होती है।

कमर का दर्द : 2 खजूर को जल में उबाल कर, उसमें 2-3 ग्राम मेथी दाना का चूर्ण मिलाकर रोज खाने से महिलाओं का कमर का दर्द जल्दी ही ठीक हो जाता है।

नजला : खजूर को काली मिर्च के चूर्ण के साथ दूध में उबाल कर पीने से पुराना सूखा नजला ठीक होता है।

सूखी खाँसी : खजूर, मिश्री, मक्खन मिलाकर गरम दूध के साथ खाने से सूखी खाँसी ठीक होती है।

लीवर और तिल्ली : पाँच-सात खजूर रात भर पानी में भिगोकर सुबह उनकी गुठली निकालकर, गूदे को शहद के साथ खाने से लीवर और तिल्ली बढ़ने के रोग खत्म होते हैं।

विशेष नोट

खजूर बहुत ही मीठा होता है जिस कारण से यह शरीर में खून की शुगर के स्तर को एक दम से बढ़ाता है । अतः मधुमेह के रोगियों को खजूर का सेवन नही करना चाहिये। ऐसे रोगी यदि खजूर खाना ही चाहते हैं तो पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *