fbpx

रसेन्द्र चूड़ामणि रस – पुरुष इसको एक बार जरूर आजमाकर देखे, आपकी दुनिया बदल जायेगी


रसेंद्र चूड़ामणि रस या रसेन्द्र चूड़ामणि रस शीघ्र*पतन, ना*मर्दी और वी*र्य विकार का काल है, इसका सेवन कर स्थाई परिणाम मिलेगा 

➡ वि*याग्रा जैसी हार्ट को व गुर्दे को तकलीफ देने वाली गोलियाँ लेने वाले भाईयो, कृपया ध्यान दें कि आयुर्वेद मे शीघ्र*पतन जैसी नामुराद बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिये आप एक बार “रसेंद्र चूड़ामणि रस” खुद तैयार करके इस्तेमाल जरूर करके देखें।
• इन गोलियों का इस्तेमाल करने वाला मर्द जिस औरत के साथ सं*भोग कर लेगा वह औरत जीवन भर उसी मर्द की दासी बनकर रह जायेगी।
• ताकतवर समझकर कभी भी बताई गई मात्रा से जयादा इस्तेमाल न करें कयोंकि जयादा मात्रा में सेवन करने से कामोत्तेजना बहुत बढ जाती है।
www.allayurvedic.org
• यह “रसेंद्र चूडामणि योग” इतना प्रभावशाली है कि इसका सेवन करने से रोम- रोम नाचने लगता है। मस्ती से भरा हुआ मर्द जब औरत के साथ सेज साँझी करता है तो दोनों की रूह एक दूसरे में इस तरह समा जाती है जैसे तुम और मैं का भेद समाप्त हो जाता है।
• इसका उपयोग एक दूसरे से बहुत प्यार करने वाले जोड़ों को जरूर करना चाहिए। वही इसकी सही उपयोग करके एक दूसरे के हो सकते हैं। औरत वाले इसका इस्तेमाल सोच समझकर ही करें।
• यह औषधि अति विलासी “राजे- महाराजे” इस्तेमाल करते थे। क्योंकि उनके एक से अधिक औरतों के साथ संबंध होते थे। इसके कुछ दिन सेवन करने से वी*र्य बहुत गाढा हो जाता है। इसके कुछ दिनों के इसतेमाल से नाड़ीतंत्र को ताकत मिलती है।
• इसमें सोना, चाँदी, सिका (नाग) वंग व अभ्रक आदि वी*र्य वर्धक औषधियों का मिश्रण होने के कारण अफीम से होने वाले नुकसान बहुत कम हो जाते हैं। लेकिन फिर भी इसका सेवन 20 दिनों से जयादा न करने की सलाह दूँगा।
शूगर के मरीजों को हमेशा शीघ्र*पतन की शिकायत रहती है उनके लिये यह “रसेंद्र चूडामणि रस” वरदान है। जबकि दूसरी बाजीकरक व वी*र्य सतंभक आयुर्वेदिक औषधियाँ 40-45 दिनों बाद अपना असर दिखाना शुरू करती हैं वहीं यह योग तुरंत प्रभाव से असर दिखाता है व इसका प्रभाव भी काफी समय तक रहता है।

➡ बनाने की विधी :
• पारा भस्म 10 ग्राम।
• स्वर्ण भस्म 20 ग्राम।
• नाग भस्म 100 पुटी 30 ग्राम।
• अभ्रक भस्म 1000 पुटी 40 ग्राम।
• वंग भस्म 50 ग्राम।
• अतुल शकतिदाता योग (खुद तैयार किया) 60 ग्राम।
• चाँदी भस्म 70 ग्राम।
• स्वर्ण माक्षिक भस्म 80 ग्राम।
सबको मिलाकर धतूरे के पतों के रस और भंग के पतों के रस में तीन दिन खरल करें। फिर मघाँ, गिलोय, भड़िंगी, अंबरबेल, खस, नागरमोथा, शुद बचनाग, मुलठी, शतावर, कौंच के रस जा काड़े की सात- सात भावना देवें। जब सारी दवाई सूख जाये तो इसके कुल वजन की आधी अफीम मिलाकर तुलसी के रस में घोटकर 1-1 रती की गोली बनाकर छाया में सुखा लें।

Contact details for online order 

Dr. Ajaz Khan  B.U.M.S C, .S.V.D (Bombay), I.M.T (Pune), M.R.S.P.H (London, England), B.E.M.S (Bhopal), C.C.I.M (New Delhi) E-Mail : Allayurvedic@gmail.com

➡ मात्रा :
1 या 2 गोली तक दूध से लेवें। तुरंत प्रभाव हेतू संभोग से 2 घंटे पहले गर्म दूध से लेवें।
यह ना*मर्दी, वी*र्य की कमजोरी और शीघ्र*पतन दूर करने के लिये उतम योग है। ज्यादा औरतों के साथ संभोग करने वाले विलासी पुरूषों के लिये उतम औषधि है।
कृपया ध्यान दे : कृपया आप रसेंद्र चूड़ामणि रस अपने नजदीकी प्रमाणीकृत वैद्य की सहायता से ही बनवाये गलत तरीके से बनाई गई कोई भी औषिधि नुकसान दायक हो सकती है।

➡ क्या आप निम्न से*क्स समस्याओं से परेशान हैं ?

  1. लिं*ग का आकार आदि सामान्य होने के बावजूद भी से*क्स की इच्छा ही न होना जिस कारण संगिनी का कुंठित व्यवहार आपके सामने आ रहा है या अकारण पत्नी झिड़कियाँ दे रही है ।
  2. से*क्स करते-करते बीच में ही उत्तेजना समाप्त होकर लिं*ग का बिना वी*र्य निकले ही ढीला पड़ जाना और पत्नी का असंतुष्ट रह जाना ?
  3. से*क्स क्रिया शुरू करते ही वी*र्य निकल जाना और पत्नी के सामने शर्मिंदा होना पड़े ?
  4. एक बार यदि से*क्स कर लिया तो कई-कई दिनों तक लिं*ग में से*क्स करने लायक उत्तेजना का ही न आना जिस कारण यदि पत्नी कम उम्र है तो अकारण काम का बहाना करना पड़ता है? www.allayurvedic.org
  5. वी*र्य में शु*क्राणुओं की कमी, वी*र्य का पानी की तरह पतला होना ?
  6. से*क्स के बाद भयंकर कमजोरी महसूस होना जैसे बरसों से बीमार हों ?
  7. लिं*ग में से*क्स करने लायक कठोरता का न आना और इच्छा होने पर भी थोड़ा सा उत्तेजित होकर पिलपिला बना रहना ?
  8. जवानी शुरू होते ही हस्त*मैथुन करके वी*र्य का सत्यानाश करा और लिं*ग को भी बीमार बना डाला है ?
  9. से*क्स के दौरान दम फूलने लगना जैसे अस्थमा का दौरा पड़ गया हो ?
  • ऐसी तमाम समस्याएं हैं जिनके कारण वैवाहिक जीवन का सत्यानाश होता रहता है और कई बार तो साथी के कदम बहक जाने से परिवार तक टूट जाते हैं। ऐसे में पति बाजारू दवाओं का सेवन करके या नीम-हकीमों के चक्कर में अपनी मेहनत का पैसा लुटाते रहते हैं लेकिन ऐसी दवाओं से स्थायी समाधान हाथ नहीं आकर बस कुछ देर के लाभ का छलावा महसूस होता है। ऐसे में चाहिये कि शरीर का भली प्रकार पोषण करके शक्ति प्रदान करने वाली औषधि आपके पास हों न कि क्षणिक उत्तेजना देकर आँखों, किडनी व मस्तिष्क यानि दिमाग का नाश करे ।
  • All Ayurvedic ने गहन अध्ययन और अनुभव के बाद एक परिपूर्ण सेट डिजाइन करा है जो कि शरीर की समस्त आवश्यकताओं को पूरा कर न सिर्फ़ कमजोरी दूर करता है बल्कि अतिरिक्त काम-क्षमता (से*क्स पावर) भी प्रदान करता है। सहारा आयुर्वेद परिवार चूंकि इन दवाओं पर लाखों रुपये दिखावा करने वाले विज्ञापनों में खर्च नहीं करता है इसलिये मूल्य में हमें बाजारू दवाओं से अत्यंत कम दाम पर औषधि तैयार करने का मौका मिलता है। सहारा आयुर्वेद परिवार सिर्फ़ मरीजों की जरूरत भर की दवाएं बनाता है हम कोई व्यापारिक उत्पादन नहीं करते हैं इसलिये सिर्फ़ आवश्यकता पर ही दवाएं मंगवाएं न कि बेचने के लिये। हम सिर्फ़ उतना ही पैसा लेते हैं जितना कि दवा के निर्माण में तथा आपको स्पीड पोस्ट से भेजने में खर्च आता है। www.allayurvedic.org

Contact details for online order 

Dr. Ajaz Khan  B.U.M.S C, .S.V.D (Bombay), I.M.T (Pune), M.R.S.P.H (London, England), B.E.M.S (Bhopal), C.C.I.M (New Delhi) E-Mail : Allayurvedic@gmail.com

  • औषधियों के बने सेट को कुछ समय तक सेवन से स्थायी परिणाम मिलता है। इसके प्रभाव से आप पिछली गलतियों को सुधार सकते हैं और नए जीवन की सफलता से शुरूआत की है!!  हमारी कूरियर की Worldwide Delivery Service Available है।
  • हमारी सभी औषधियाँ 100% शुद्ध है क्योंकि हम यह नेपाल से मंगवाते है, गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नही करते तभी हमारी औषधियाँ परिणाम भी सत्–प्रतिशत देती है।
  • कृपया ध्यान दे : रोज हमे हज़ारो की संख्या में कॉल और सन्देश आते है तो आपसे निवेदन की समय की नजाकत को समझ कर कम से कम समय में अपनी समस्या से हमे अवगत करवाये। ताकि अन्य लोगो को भी हम समय दे सके।

<link rel=”amphtml” href=”https://www.allayurvedic.org/2018/10/Rasendra-chudamani-ras-online.html/amp/”>

Loading...
Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!