fbpx

गुड़हल के फूल का तेल

  • जब बाल झड़ना शुरू होते हैं तो शुरुआत में यह इतनी ज्यादा नहीं झड़ते और हम इसे एक मामूली बात समझकर नजरअंदाज कर देते हैं। लेकिन बालों का गिरना समय के साथ-साथ बढ़ता चला जाता है और कुछ ही महीनों में यह दुगनी रफ्तार पकड़ लेता है। जिसकी वजह से पहले के मुकाबले हमारे सर पर बाल कम हो जाते हैं और पतले भी दिखाई देने लगते हैं।
  • अलग-अलग लोगों में बालों के झड़ने की वजह भी अलग-अलग होती है, लेकिन उम्र से पहले बालों का झड़ना और गंजापन आ जाना आज के समय में एक बहुत ही बड़ी प्रॉब्लम बन चुकी है. अक्सर तरह-तरह के प्रयासों के बाद भी जब हमें कोई अच्छे परिणाम नहीं मिलते हैं तो हम बाजारों से मिलने वाली चीजों का इस्तेमाल करने लगते है जिससे यह समस्या और बढ़ जाती है।
  • चेहरे की सुंदरता के लिए बालों का खूबसूरत होना बहुत जरूरी है। बढ़ते प्रदूषण, तेल और शैंपू में धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहे केमिकल्स की वजह से बालों की सेहत पर बेहद बुरा असर पड़ रहा है। ऐसे में बहुत से लोग बालों के असमय सफेद हो जाने, झड़ने तथा रूखे होने की समस्या से परेशान हैं। खाने में पोषक तत्वों की कमी भी इसकी एक वजह है। 
  • बालों की इन समस्याओं से लड़ने के लिए लोग तमाम तरह के उपाय आजमाते हैं। बाजार में मौजूद बालों की बेहतर सेहत का दावा करने वाले कई तरह की दवाएं लाभ की बजाय उन्हें और नुकसान पहुंचाती हैं। ऐसे में बालों के लिए प्राकृतिक तरीकों का इस्तेमाल ज्यादा बेहतर हो सकता है। आज हम आपको बालों को खूबसूरत और स्वस्थ बनाने के एक ऐसे प्राकृतिक नुस्खे के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका इस्तेमाल आसान भी है और सुलभ भी….

गुड़हल फूल है फायदेमंद 

  • गुड़हल फूल अपने आप में एक चमत्कारी औषधि है। यह बालों से लेकर त्वचा और शरीर में लगभग 40 से अधिक बीमारियों को पूरी तरह से ठीक करने के लिए बहुत उपयोगी होता है। इसका इस्तेमाल करने से हमारे बालों को मजबूती मिलता है। इसका प्रयोग करने के लिए इसमें अरंडी तेल मिलाकर नुस्खे तैयार करना पड़ेगा। यह तेल सफेद बाल, गंजापन, बालो का पकना, बालों का झड़ना, बालो में चमक, बालो में डैंड्रफ, घने और लंबे बाल और बालो में रूखापन आदि बालो की सभी समस्याओं में किसी रामबाण औषधि से कम नही है।


तेल बनाने की विधि :

  • इस नुस्खे को बनाने के लिए सबसे पहले दो गुड़हल के फूल और दो गुड़हल की पत्तियों को हाथों की सहायता से बारीक काट लें. फिर इन्हें लगभग 100 मि.ली. अरंडी के तेल में डालकर 7 दिन के लिए किसी कांच के जार में भरकर धूप में रख दें. धूप में रखने से गुड़हल में मौजूद सारे पोषक तत्व तेल में पूरी तरह मिल जाते हैं। 7 दिन बाद यह नुस्खा तैयार हो जायेगा।

उपयोग करने का तरिका :

  • इसका इस्तेमाल करने के लिए तैयार इस मिश्रण को अपने हाथों में लेकर उंगली की सहायता से अपने बालों की जड़ों में लगाएं और उसके बाद लगभग 10 से 15 मिनट तक हल्के हाथों से मसाज करें. ध्यान रहें बालों को बहुत हल्के हाथों से मसाज करें, ज्यादा जोर लगाने से बालों की जड़े कमजोर होती है जिसकी वजह से थोड़ा-सा खींचाव होने से बाल टूटते हैं।
  • तेल का इस्तेमाल बालों को धोने के 2 घंटे पहले करें और अगर आप चाहें तो इसे रात भर के लिए अपने बालों पर भी लगा रहने दें। ऐसा करने से बाल गिरना और गंजेपन की समस्या से छुटकारा मिल जायेगा।

गुड़हल का बालो की समस्याओं में फायदे :

  1. गुड़हल को अगर मेहंदी के साथ मिलाकर बालों पर लगाएंगे तो इससे रूसी की समस्या से काफी राहत मिलती है।
  2. गुड़हल की पत्तियों को पीस लें। इसे अंडे के साथ मिलाएं और बालों की जड़ों पर लगाएं। यह आपके बालों को न सिर्फ सुंदर बनाता है बल्कि बालों को काला बनाने में भी मदद करता है। बालों की खोई चमक लौटाने के लिए भी ये नुस्खा बेहद कारगर है।
  3. अगर अपने बालों को घना बनाना है तो गुड़हल के फूल को आंवले के साथ पीसकर लेप तैयार कर लें। इस लेप को बालों पर लगाएं। थोड़ी देर बाद ठंडे पानी से धो लें। इससे बालों का झड़ना बंद हो जाएगा, साथ ही साथ बाल घने व काले भी हो जाएंगे।
  4. सरसों या नारियल के तेल में गुड़हल का फूल मिलाकर हल्का गर्म कर लें। अब इस तेल से रात को सोने से पहले सिर में लगाकर मालिश करें। सुबह उठकर शैंपू कर लें। इससे आपके बाल स्वस्थ रहेंगे।

<link rel=”amphtml” href=”https://www.allayurvedic.org/2018/10/Gudhal-ke-ful-ka-tel.html/amp/”>

loading...
Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!