fbpx

चाहे छोटे बच्चे हो या फिर बुजुर्ग आप हींग को गरम पानी में घोलकर नाभि पर लगाए, फिर देखे इसका कमाल जिसकी आपने कल्पना नही की होगी

  • हींग हमारे शरीर के लिए अति उत्तम माना गया है। हींग में भूख बढ़ाने वाले और भोजन को पचाने वाले अनोखे गुण होते हैं। यह एक उत्तम घरेलु औषधि है। जिसका सेवन करने से आप पेट संबंधी बीमारियों से दूर हो सकते हो। हींग आपके जीवन के लिए एक आयुर्वेदिक दवाई है। यदि आपका पेट ठीक है तो आपका शरीर हमेशा स्वस्थ रहेगा। हींग में छिपे हैं वे सभी राज जो आपके जीवन को रोगमुक्त और स्वस्थ बनाएगें। अतः हींग का सेवन अपने भोजन में अवश्य करें। आइये जानते हैं हींग में छिपे हुए पोषक तत्वों को।

हींग में छिपे हुए 10 चमत्कारी फ़ायदे : 

  1. पेट दर्द : वायु रोग के कारण यदि पेट में दर्द हो, चाहे छोटे बच्चे हो या फिर बुजुर्ग आप हींग को गरम पानी में घोलकर नाभि में या इसके आस पास लेप लगाने से पेट दर्द में तुरंत राहत मिलती है।
  2.  अर्जीण : भोजन करने के बाद यदि आप हींग की 1 से 2 गोली लें तो इससे आपका खाना जल्दी पचेगा और अर्जीण से आपको मुक्ति मिलेगी।
  3. गैस की समस्या : हींग का प्रयोग खाने में इस्तेमाल करने से पेट संबंधी बीमारियां जैसे अपच, आंत संबंधी रोग, आंत की गैस की समस्या से आपको दूर रखेगा।
  4. सांस संबंधी रोग : हींग सांस संबंधी समस्याओं को भी ठीक रखता है। काली खांसी हो या सूखी खांसी, आप अदरक और हींग को शहद में मिलाकर लेने से इन रोगों से निजात पाया जा सकता है।
  5. ब्लड प्रेशर : यह उच्च रक्तचाप को कम करता है। यह बढ़े हुए ब्लड प्रेशर को कम करता है।
  6. मधुमेह : हींग मधुमेह के प्रभाव को कम करता है। यह ब्लड शुगर के स्तर को नीचा लाता है।
  7. दस्त : हींग, सफेद जीरा, सोंठ, पीपल और सेंधा नमक को 10-10 ग्राम कूट कर चूर्ण तैयार करें और एक शीशी में भरकर रख लें। और 1-1 चम्मच सुबह, दिन और रात को गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। इस तरह से आपको दस्त से भी राहत मिलेगी।
  8. सिर दर्द : हींग का प्रयोग यदि आप हमेशा करते हैं तो यह आपको सिर दर्द नहीं होने देगा, यदि सिर में दर्द है तो आप हींग को पानी में मिलाकर पीने से सिर दर्द से राहत मिलती है। यह वैदिक औषधी है।
  9. पौरुष कमज़ोरी और शारीरिक ताक़त : 40 दिनों तक 6 सेंटीग्राम (0.06 ग्राम) हींग का सेवन करने से आप शारीरिक ताक़त की क्रिया ड्राइव को बेहतर बना सकते हैं। मिक्सचर के रूप में लगभग 0.06 ग्राम हींग को घी में फ्राई करें और उसमें शहद और बरगद के पेड़ का लैटेक्स मिलाकर इस मिश्रण को बना लें। पौरुष कमज़ोरी को ठीक करने के लिए सुबह सूर्य निकलने के पहले इस मिश्रण का सेवन खाली पेट 40 दिनों तक करें।

रोज सुबह पानी में मिलाकर पियें हींग, खत्म हो जाएगी खून की कमी, एसिडिटी, डायबिटीज और जोड़ो का दर्द

  • आजकल हर घर मे कोई न कोई सदस्य किसी ना किसी बीमारी से परेशान रहता है फिर चाहे वो डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, एसिडिटी और जोड़ो का दर्द ही क्यों ना हो । वर्तमान में आधुनिक जीवनशैली, गलत खान-पान और असन्तुलित रहन सहन के कारण ये सब बीमारिया आम हो गयीं है।और अगर आप छोटी छोटी बीमारियों में अंग्रेज़ी दवा लेने लग जाते है तो बहुत गलत करते है क्योंकि इससे आपकी किडनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है।इसके बदले आप इन बीमारियों से बचनें के लिए आयुर्वेदिक युक्तियों का सहारा ले तो यह आपके लिए ज्यादा अच्छा होगा।हम आपको आज एकनाइसी ही आयुर्वेदिक युक्ति बताते है जिसका उपगोग कर के आप खुद को स्वस्थ रख सकते है।

आवश्यक सामग्री :

  1. गेंहु के दाने बराबर हींग
  2. 1 गिलास पानी

बनाने की विधि और सेवन का तरिका :

  • सबसे पहले आप 1 गिलास हल्के गुन-गुने पानी में लगभग एक गेंहु के दाने बराबर हींग को पानी में घोल ले, फिर इसका सेवन बेठकर करे।  अगर आप एसिडिटी, डायबिटीज, खून की कमी और जोड़ो के दर्द से बचना चाहते है तो आप रोज़ाना सुबह हींग के पानी का सेवन करना शुरू कर दे क्योंकि इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते है जो हमारे डाइजेशन सिस्टम को ठीक करते है । सिर्फ इतना ही नहीं हींग का पानी आपकी हड्डियों और दांतों को भी मजबूत बनाता है और यह अस्थमा के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। 

Loading...
Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!