fbpx

लहसुन और दूध का ये उपाय सियाटिका का दर्द, जोड़ों का दर्द, कोलेस्ट्रॉल, कब्ज और माइग्रेन में किसी संजीवनी से कम नही, ऐसे करे सेवन

आजकल लोगों के जीने का उपाय पहले की अपेक्षा बहुत बदल गया है। आज के समय में खान-पान में लापरवाही के कारण कमजोरी के साथ-साथ स्वास्थ्य सम्बन्धी व भी कई सारी समस्याएँ आने लगती है, आज हम आपको दूध के साथ लहसुन के सेवन से होने वाले 6 बड़े फ़ायदों के बारे में बताएँगे। आजकल ज़्यादातर लोगो के घुटनों में दर्द सियाटिका की समस्या रहती है, कभी कभी तो ये दर्द इतना बढ़ जाता है की चलने फिरने में दिक्कत आने लगती है, कभी कभी तो इस दर्द के कारण घुटनो में सूजन की समस्या भी हो जाती है। पर आज हम आपको लहसुन और दूध का ऐसा तरीका बताने जा रहे है जिनके प्रयोग से घुटने का दर्द, सियाटिका अच्छा हो जाता है, यही नही इस उपाय से कोलेस्ट्रॉलकब्ज, अपच और माइग्रेन आदि जैसी समस्याओं
से ही निजात मिलती है।

दूध और लहसुन के फायदे :

  1. सियाटिका का दर्द : 4 लहसुन की कलियाँ और 200 ml दूध, सबसे पहले लहसुन को काट कर दूध में डाल दें | दूध को कुछ मिनट तक उबालें। उबालने के बाद इसे मीठा करने के लिए थोडा शहद मिला लें | इस दूध का रोजाना सेवन करें जब तक दर्द खत्म न हो जाये |
  2. कोलेस्ट्रॉल : दूध और लहसुन का मिश्रण आपकी हृदय धमनियों की रूकावट यानि उसमें जमे हुए कोलेस्ट्रॉल को खत्म करने में मदद करता है और हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या दूर होती है। 
  3. कब्ज : आयुर्वेद के अनुसार यह प्राकृतिक पेय  दूध और लहसुन का मिश्रण आंतों को सक्रिय कर कब्ज की समस्या को दूर करता है और गुदा मार्ग को भी नर्म बनाता है।
  4. अपच : दूध और लहसुन का यह मिश्रण पाचक रसों के निर्माण में अहम भूमिका निभाता है जिससे एसिडिटी और अपच जैसी समस्याओं में लाभ होता है।
  5. जोड़ों का दर्द : इस दूध में शोथरोधी तत्व होते हैं, जिसके कारण यह जोड़ों के दर्द में विशेष रूप से फायदेमंद साबित होता है। अगर आपके घुटनों में दर्द की समस्या रहती है तो इसके लिए नियमित रूप से 1 गिलास दूध में 3-4 लहसून की कलियां डालकर उबाल कर पिए। इसे पीने से दर्द को राहत मिलती है।
  6. माइग्रेन : माइग्रेन के मरीजों के लिए दूध और लहसुन का यह सम्म‍िश्रण बेहद लाभदायक है। यह सामान्य सिरदर्द से भी निजात दिलाने में मददगार है।
loading...
Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!