fbpx

पेट साफ़ करने का जबरदस्त घरेलू उपाय, 2-3 दिन में आपके पेट को मख़मल की तरह हल्का महसुस करोगे

पाचन तंत्र का हिस्सा बृहदान्त्र शरीर से अपचनीय खाद्य पदार्थ को निकालने का काम करता है, हालांकि, जब यह ठीक से काम नहीं करता है, तो यह उन्हें नष्ट करने के बजाय विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करना शुरू करता है, जिससे सिरदर्द, कब्ज, गैस, वजन, कम ऊर्जा, थकान और पुरानी बीमारियों जैसी समस्याएं पैदा होती हैं। हालांकि, बृहदान्त्र की सफाई करके हानिकारक विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाया जा सकता है। लोगों के लिए सबसे अच्छा विकल्प प्राकृतिक घरेलू उपचार हैं…

घरेलू उपचार से पेट की सफाई :

  1. ईसबगोल : ईसबगोल की मात्रा 6 ग्राम, को 250 मिलीलीटर गुनगुने दूध के साथ सोने से पहले पी लें। कभी-कभी ईसबगोल की भूसी लेने से पेट फूल जाता है। ऐसा बड़ी आंतों में ईसबगोल पर बैक्टीरिया के प्रभाव से पैदा होने वाली गैस से होता है। इसलिए ध्यान रखें कि ईसबगोल की मात्रा कम से कम ही लें। ईसबगोल के प्रयोग से आंतों की कार्यशीलता बढ़ जाती है, जिससे मल ठीक से बाहर निकल आता है और कब्ज दूर हो जाती है। ईसबगोल लेने के बाद दो-तीन बार पानी पीना चाहिए। इससे ईसबगोल अच्छी तरह फूल जाता है।
  2. त्रिफला : त्रिफला (हरड़, बहेड़ा तथा आंवला) का दो चम्मच चूर्ण प्रतिदिन रात में सोते समय गर्म दूध या गर्म पानी के साथ लेने से कब्ज दूर हो जाती है।
  3. पानी : बृहदान्त्र की सफाई के लिए एक दिन में कम से कम 10 से 12 गिलास पानी पीना जरूरी है। पानी की नियमित खपत आपके शरीर को तरल प्रदान करेगी, जिससे प्राकृतिक रूप से हानिकारक विषाक्त पदार्थ आपके शरीर से बाहर निकल जाएंगे। पानी पीने से प्राकृतिक इमलीस्टिक क्रियाओं को प्रोत्साहित किया जा सकता है। शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखने के लिए पानी आवश्यक है। पानी के साथ, आप ताजे फल और सब्जी के रस भी पी सकते हैं। 
  4. नींबू का रस : नींबू में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं और इसमें मौजूद उच्च विटामिन सी सामग्री आपके पाचन तंत्र के लिए बहुत अच्छा होता है। इसलिए, पेट की सफाई के लिए नींबू का रस इस्तेमाल किया जा सकता है। एक गिलास पानी में शहद, नींबू का रस और समुद्री नमक को अच्छी तरह से मिलाएं।
Loading...
Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!