fbpx
Home » खाँसी-जुकाम » मिर्गी हो या फिर हो दमा ये पौधा इनका अद्भुत उपाय है, एक बार आजमाने में ही मिल जाता है आराम

मिर्गी हो या फिर हो दमा ये पौधा इनका अद्भुत उपाय है, एक बार आजमाने में ही मिल जाता है आराम

  • नागरमोथा पूरे भारत में नमी तथा जलीय क्षेत्रों में अधिक मात्रा में पाये जाते हैं। इसके झाड़ीनुमा पौधे समुद्र तल से 6 हजार फुट की ऊंचाई तक पाये जाते हैं।
  •  नागरमोथा नदी और नालों के किनारे की नमी वाली भूमि में पैदा होते हैं। पुष्प (फूल) जुलाई में तथा फल दिसम्बर के महीने में आते हैं।

दवा बनाने की विधि: 

  • दमा, खांसी : नागरमोथा, सोंठ और बड़ी हरड़ के चूर्ण में गुड़ मिलाकर खाने से दमा और खांसी नष्ट हो जाती है।
  • सोंठ, हरड़ और नागरमोथा को पीसकर गुड़ में मिलाकर 2-2 ग्राम की मात्रा में गोलियां बनाकर रख लें। इन्हें चूसने से सभी प्रकार की खांसी और दमा नष्ट हो जाती है।
  • मिर्गी : नागरमोथा को उत्तर दिशा की तरफ से पुण्य नक्षत्र में अच्छे दिन में उखाड़कर एक रंग की गाय (जिस गाय के बछड़े न मरते हो) के दूध से पिलाने से मिर्गी में लाभ पहुंचता है

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *