fbpx
Home » बवासीर » ये फल ह्रदय और लिवर के लिए किसी वरदान से कम नही है, गर्मी में तो ये स्पेशल होता है

ये फल ह्रदय और लिवर के लिए किसी वरदान से कम नही है, गर्मी में तो ये स्पेशल होता है

  • लीची का फल पतले लेकिन सख्त छिलके से ढका होता है। अन्दर सफेद गूदेदार रसीला फल होता है।
  • फल के अन्दर भूरे रंग की गुठली होती है। इसके गूदे का जूसर से रस निकाला जाता है।
  • लीची के अन्दर विटामिन, खनिज-लवण पूरी मात्रा में होते हैं। गर्मियों में जब शरीर में पानी व खनिज लवणों की कमी हो जाती है। 
  • तब लीची का रस बहुत फायदेमंद रहता है। इसे खाने से दिल, दिमाग और लीवर मजबूत होता है।

लीची का प्रयोग:

  • यकृत रोग : लीची जल्दी पच जाता है। यह पाचन क्रिया को मजबूत बनाने वाली तथा यकृत रोगों में लाभकारी है
  • प्यास : लीची गर्मियों के तपन व प्यास को शान्त करती है।
  • पित्त बढ़ना : लीची खाने से पित्त की अधिकता कम होती है।
  • हृदय की दुर्बलता : लीची का सेवन करने से हृदय की तेज धड़कन में लाभ होता है।
  • गर्मी के मौसम में आधा कप लीची का रस रोज पीने से हृदय को काफी बल मिलता है।
  •  याददास्त कमजोर होना : लीची, नारियल और पिस्ता खाने से दिमाग की कमजोरी दूर हो जाती है
  • गले के रोग : लीची के फल को खाने से गले की जलन समाप्त होती है।
  • कब्ज : लीची का नियमित सेवन करने से कब्ज दूर होती है।

  • बवासीर : बवासीर के रोगियों के लिए लीची का सेवन करना लाभकारी होता है।

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *