fbpx

अगर फूल गयी है आपकी आँखे तो इस्तमाल करे ये रामबाण तरीके

इस रोग में रोगी को ऐसा महसूस होता है जैसे कि मानो आंखों के आगे छोटी-छोटी फिटिंगियां या छोटा सूत जैसा कुछ धूल कण उड़ रहा है।  पुराना बुखार, अधिक सेक्स क्रियाखून की कमी आदि कई कारणों से यह रोग होता है। यह रोग शरीर में अधिक कमजोरी आने के कारण से भी हो सकता है।

आँखों के फूलने का उपचार:

1.मूली : मूली का पानी आंख का जाला व धुंध को दूर करने में सहायक है।

2. कांकड़ : कांकड़ के पेड़ की एक हाथ लम्बी पतली टहनी को मुंह में रखकर जोर से सांस छोड़ना चाहिए इस तरह करने से जो रस बाहर निकले, उसे 3 दिन तक आंख में डालना चाहिए।

3. कपूर : बड़ के दूध में कपूर को पीसकर लगाने से 2 महीने की फूली भी बैठ जाती है।

4. कटेरी : कटेरी की जड़ को नींबू के रस में घिसकर आंखों में लगाने से धुन्ध और जाला मिटता है।

5. नीम : नीम के सूखे फूल, कलमीशोरा को बारीक पीसकर कपड़े में छानकर आंखों में काजल के रूप में लगाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है तथा रतौंधी (शाम को दिखाई बंद होना) में कच्चे फल का दूध आंखों में लगा सकते हैं।

6. धनिया :हरी धनिया के पत्तों का रस निकालकर प्रतिदिन 3-4 बार आंखों में डालते रहने से उनकी गर्मी शांत हो जाती है तथा जलन, धुंध, लाली, दर्द आदि में फायदा होता है।

7. अरण्डी का तेल : 30 मिलीलीटर अरण्डी के तेल में 25 बूंद कारबोलिक एसिड को मिलाकर सुबह-शाम दो-दो बूंद आंखों में डालें। इससे आंखों के फूला, जाला आदि में लाभ मिलता है।

8. हल्दी :

  • 5-5 ग्राम शुद्ध शोराकलमी और अम्बा हल्दी को पीसकर कपडे़ में छानकर आंखों में 7 दिनों तक लगातार सलाई से लगाएं।
  • हल्दी के एक टुकड़े को नींबू में सुराख करके अंदर रख दें। नींबू को धागे से बांधकर लटका दें। नींबू जब सूख जाये तो उसमें से हल्दी को निकालकर और पीसकर पानी में मिलाकर आंखों में सुबह-शाम लगाने से आंख के जाले में रोगी को लाभ होगा।

8. आलू : कच्चे आलू को पत्थर पर पीसकर उसका रस निकाल लें। इस रस को सुबह-शाम काजल की तरह आंखों में लगाने से 5-6 साल पुराना जाला और 4 साल तक का फूला 3 महीने में साफ हो जाता है।


विनम्र अपील : प्रिय दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो या आप आयुर्वेद को इन्टरनेट पर पोपुलर बनाना चाहते हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता है आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा।

loading...
Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!