fbpx

श्वास नली के निचले हिस्से के संक्रमण को ठीक करें इस चमत्कारी औषिधि से

जब गले की मांसपेशियों और आहार नली के तन्तुओं में दोष पैदा हो जाते हैं तो आहार नली फैलने और सिकुड़ने (संकुचन और प्राकुचन) की क्रिया ठीक से नहीं करती और ऐसा महसूस होता है कि गले में कुछ खाने के दौरान अटक-सा गया है। साथ-ही साथ सांस घुटने लगती है। इसे ही आहार नली का सिकुड़ना कहते हैं।

विभिन्न औषधियों से उपचार :

1. प्रसारिणी :

  • प्रसारिणी के पत्ते का रस 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा में कालीमिर्च के साथ रोजाना सुबह-शाम देने से लाभ होता है।
  • प्रसारिणी के शुद्ध तेल को गले पर रोजाना दिन में 2 से 3 बार मालिश करने से अन्ननली के सिकुड़ने की परेशानी में आराम मिलता है।

विनम्र अपील : प्रिय दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो या आप आयुर्वेद को इन्टरनेट पर पोपुलर बनाना चाहते हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता है आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा।

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!