fbpx

हृदय घात के बाद पीपल का ये प्रयोग – दोबारा नहीं होने देगा हार्ट अटैक

  • आजकलकीभागदौड़भरीज़िन्दगीमेंहमअपनास्वस्थ्यबहुतपीछेछोड़आयेहैंऔरअक्सरनयीनयीबिमारियोसेघिरेहोनेसेआशंकितरहतेहैंकिकहींहमइसप्राणघातकरोगसेग्रस्तहोजाए।अगरआपहृदयघातसेआशंकितहैंतोयेलेखऔरयेप्रयोगआपकेलिएहीहैं
  • पीपलकोवेदोमेंअमृतमयमानागयाहैं।दुनियाकासबसेताकतवरजीवहाथीहैंजिसकायेबहुतहीपसंदीदाभोजनहैंऔरहिन्दूधर्ममेंभीऐसीकईप्रथाएबनायींगयीहैंजिससेहमपीपलकेसमक्षज़्यादातरजाए, ऐसाकरनाकोईअंधश्रद्धानहींथीबल्किउससमयकेज्ञानीपुरुषोनेऐसाविधानबनायाथाक्युकीपीपलकेनीचेबैठनेसेहीकईश्वांससम्बंधितरोगोसेमुक्तिमिलजातीहैं।
  • भगवानश्रीकृष्णनेपीपलकेवृक्षकीमहिमाकाबखानकरतेहुएविश्वप्रसिद्धग्रंथगीतामेंकहाहै-‘सबपेड़ोंमेंउत्तमऔरदिव्यगुणोंसेसम्पन्नपीपलमैंस्वयंहूँ
  • प्रकृतिनेबहुतसारीचीजोकोहमारेशरीरकेकुछअंगोकेआकारकाबनायाहैंतांकिइसकोदेखकरहमेयेआभासहोकेक्याइसकाहमारेशरीरसेकोईकनेक्शनहैं।इन्हीमेंसेएकहैंपीपल।आपइसकेपत्तोकोगौरसेदेखिये।येहमारेदिलकेआकारकेबनेहैं।इनमेछिपाहुआहैंहमारेस्वस्थहृदयकाराज़।पीपलकीकोमलपत्तियोंमेंहृदयकोताक़तऔरशान्तिदेनेकीअद्भुतक्षमताहैं।

दोस्तों अधिक जानकारी के लिए हमारे यूट्यूब वीडियो को देखे, हमारे चैनल को लाइक व ⇑ सब्सक्राइब करना न भूले ⇑

प्रयोगकैसेकरे:

  • पीपलकेपंद्रहताज़ापत्तेले, पत्तेज़्यादागुलाबीकोपलेकोमलहो, बल्किहरेऔरभलीप्रकारविकसितहो।इनपत्तोकाऊपरकाऔरनीचेकाकुछभागकाटकरअलगकरदे।
  • पत्तेकाबाकीकाहिस्साधुलाईकरलेऔरसाफ़करले।इनको 1 गिलासपानीमें (लगभग 250 मिली) डालकरधीमीआंचमेंपकनेदे, जबपानीपककरएकतिहाईरहजाए (लगभग 80 मिली), तोइसकोसाफ़मलमलकेकपडेसेछानकरकिसीशीतलस्थानपरढककररखदे, बसदवातैयारहैं
  • इसकोतीनहिस्सोंमेंबाँटलेऔरप्रतिदिनतीनतीनघंटेकेअंतरालमेंले।औरयेखुराकलेनेसेपहलेथोड़ाहल्काभोजनजैसेदलियावगैरहयाआटेसेबने 2-3 बिस्कुटज़रूरलेमतलबयेखालीपेटनहींलेनी
  • जिनकोहृदयघातहोचुकाहैंवहजबकुछदिनोंमेंथोड़ेसामान्यहोजाएतबयेप्रयोगलगातार 15 दिनतककरेइससेउनकाहृदयपुनःस्वस्थहोजायेगाऔरदिलकादौरापड़नेकीसम्भावनानहींरहेगी
  • दिलकादौरापडजानेसेपरेशानव्यक्तिइसप्रयोगकोज़िंदगीमेंकमसेकमएकबारज़रूरकरे, इसनुस्खेसेउनकाहृदयरोगनिर्मूलहोसकताहैं।

परहेज :-

इसप्रयोगकालमेंकुछपरहेजबहुतज़रूरीहैं, तालीहुयीचीजे, चावल, मांसमछली, अंडे, शराब, धूम्रपान,नमक, चिकनाईकाप्रयोगबिलकुलबंदकरदे

खाए :-

अनार, पपीता, आंवला, बथुआ, लहसुन, मेथीदाना, मौसमी, सेबकामुरब्बा, रातमेंकालेचनेभिगोकरसुबहखालीपेटखाए, किशिमिश, दहीछाछ।

विनम्र अपील : प्रिय दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो या आप आयुर्वेद को इन्टरनेट पर पोपुलर बनाना चाहते हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता है आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा।

loading...
Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!