fbpx

प्याज : शीघ्रपतन, वीर्यवृद्धि और नपुंसकता में रामबाण

शीघ्रपतन, वीर्यवृद्धि और नपुंसकता में प्याज रामबाण :
www.allayurvedic.org
प्याज एक अति गुणकारी सब्जी हैं, ये सब्जी कम हैं औषिधि ज़्यादा हैं। प्याज नाड़ी संस्थान, शारीरिक, मानसिक, कामशक्ति को ताक़त देता हैं। प्याज और घी का संयोग गुणकारी हैं। प्याज कई गंभीर बीमारियों के लिए ये रामबाण है। यौन शक्ति के संवर्धन एवं संरक्षण के लिए प्याज एक सस्ता एवं सुलभ विकल्प है।

प्याज की सब्जी घी से छौंक कर बनाने से अधिक पौष्टिक और स्वादिष्ट हो जाती हैं। प्याज का रस और घी मिलाकर पीने से ताक़त बढ़ती हैं। कच्चे प्याज के टुकड़ो पर नीम्बू निचोड़ कर खाने से भोजन जल्दी पच जाता हैं। प्याज और शहद दोनों मिलकर गर्म प्रकृति के बन जाते हैं। अत: गर्भवती स्त्रियों को दोनों को मिलाकर सेवन नहीं करना चाहिए। वो केवल प्याज ही खाए।
www.allayurvedic.org

प्याज के प्रयोग :
वीर्यवृद्धि नपुंसकता दूर करने के लिए
वीर्यवृद्धि के लिए सफेद प्याज के रस के साथ शहद लेने पर फायदा होता है। सफेद प्याज का रस, शहद, अदरक का रस और घी का मिश्रण 21 दिनों तक लगातार लेने से नपुंसकता दूर हो जाती है।
www.allayurvedic.org

शीघ्रपतन और सेक्शुअल डिजायर बढ़ाने के लिए :
1. 100 ग्राम अजवाइन को सफेद प्याज के रस में भिगोकर सुखा लें। सूख जाने पर फिर यही प्रक्रिया दोहराएं। ऐसा तीन बार करें। अच्छी तरह सूख जाने पर इसका बारीक पाउडर बना लें। अब इस पाउडर को पांच ग्राम घी और पांच ग्राम शक्कर के साथ सेवन करें। इस योग को इक्कीस दिन तक लेने पर शीघ्रपतन की समस्या से राहत मिलती है। एक किलो प्याज का रस, एक किलो शहद और आधा किलो शक्कर मिलाकर डिब्बे में पैक कर लें। इसे पंद्रह ग्राम की मात्रा में एक माह तक नियमित सेवन करें। इस योग के प्रयोग से सेक्शुअल डिजायर में वृद्धि होती है।
www.allayurvedic.org

2. एक किलो प्याज के रस में आधा किलो उड़द की काली दाल मिलाकर पीस कर पेस्ट बना लें। इसे सुखाकर एक किलो प्याज के रस में मिलाकर फिर से पीस लें। इस पेस्ट को दस ग्राम मात्रा में लेकर भैंस के दूध में पकाएं और शक्कर डाल कर पी जाएं। इस योग का सेवन तीस दिन तक नियमित सुबह-शाम सेवन करने से कमजोरी दूर होती है और कामेच्छा में बढ़ोतरी होती है।
www.allayurvedic.org

#allayurvedic #ayurveda #ayurvedic #ayurved #yoga #desi

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!