fbpx
Home » अकड़न » हल्दी वाला दूध (Turmeric Milk):त्रिदोष,संधिवात,दमा,फेफड़ो में कफ,अनिद्रा,हड्डियाँ

हल्दी वाला दूध (Turmeric Milk):त्रिदोष,संधिवात,दमा,फेफड़ो में कफ,अनिद्रा,हड्डियाँ


हल्दी वाला दूध बनाने की विधि : 
रात को सोते समय देशी गाय के गर्म दूध में एक चम्मच देशी गाय का घी और चुटकी भर हल्दी डालें फिर चम्मच से खूब मिलाकर कर खड़े खड़े पियें।
लाभ :
– इससे त्रिदोष शांत होते है।
 संधिवात यानी अर्थ्राईटिस में बहुत लाभकारी है।
– किसी भी प्रकार के ज्वर की स्थिति में , सर्दी खांसी में लाभकारी है।
– हल्दी एंटी माइक्रोबियल है इसलिए इसे गर्म दूध के साथ लेने से दमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों में कफ और साइनस जैसी समस्याओं में आराम होता है. यह बैक्टीरियल और वायरल संक्रमणों से लड़ने में मदद करती है।
वजन घटाने में फायदेमंद गर्म दूध के साथ हल्दी के सेवन से शरीर में जमा चर्बी घटती है. इसमें मौजूद कैल्शियम और मिनिरल्स सेहतमंद तरीके से वजन घटाने में सहायक हैं। 
– अच्छी नींद के लिए हल्दी में अमीनो एसिड है इसलिए दूध के साथ इसके सेवन के बाद नींद गहरी आती है.अनिद्रा की दिक्कत हो तो सोने से आधे घंटे पहले गर्म दूध के साथ हल्दी का सेवन करें।
दर्द से आराम हल्दी वाले दूध के सेवन से गठिया से लेकर कान दर्द जैसी कई समस्याओं में आराम मिलता है. इससे शरीर का रक्त संचार बढ़ जाता है जिससे दर्द में तेजी से आराम होता है।
खून और लिवर की सफाई आयुर्वेद में हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल शोधन क्रिया में किया जाता है। यह खून से टॉक्सिन्स दूर करता है और लिवर को साफ करता है. पेट से जुड़ी समस्याओं में आराम के लिए इसका सेवन फायदेमंद है।
पीरियड्स में आराम हल्दी वाले दूध के सेवन से पीरियड्स में पड़ने वाले क्रैंप्स से बचाव होता है और यह मांसपेशियों के दर्द से छुटकारा दिलाता है।
मजबूत हड्डियां दूध में कैल्शियम अच्छी मात्रा में होता है और हल्दी में एंटीऑक्सीडेट्स भरपूर होते हैं।

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *