Categories

This Website is protected by DMCA.com

किडनी के घरेलू उपचार


  • किडनी हमारे शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण और भीतरी अंग होता है जो कि कई कार्य करता है जैसे - रक्त को साफ करना, विषाक्त पदार्थो को शरीर से बाहर निकालना, यूरिन का निर्माण करना, आवश्यक मिनरल्स को अवशोषित करना। 
  • किडनी यदि सही ढंग से कार्य नहीं करती है तो कई रोगों के होने की संभावनाएं बढ़ जाती है जैसे कि -किडनी स्टोन की समस्या। किडनी को स्वस्थ रखने के लिए अपना खान पान सही रखना बहुत ही ज़रुरी होता है ताकि किडनी के रोगों से बचा जा सके और किडनी अपना कार्य सही ढंग से कर सके।
  • किडनी हमारे शरीर का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। लेकिन अनजाने में आपकी कुछ आदतें आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा देती हैं,  जिन्हें वक़्त रहते सुधारा जा सकता है वरना आपकी ये आदते आपको वो दर्द दे जायेंगी जिसकी आप कल्पना भी नही कर सकते यकीन ना हो तो किडनी पेशेंट से पूछ लीजिये, आपकी आदतें जैसे कम पानी पीना, ज्यादा नमक खाना आदि।  
  • आपकी आदतें आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा सकती हैं हमारे शरीर में खून साफ करना, हार्मोन बनाना, मिनरल का अवशोषण, यूरीन बनाना, टॉक्सिन्स निकालना और एसिड का संतुलन बनाए रखने जैसे सारे जरूरी काम किडनी करती है। इससे आप समझ ही गए होंगे कि किडनी हमारे शरीर का कितना महत्वपूर्ण हिस्सा है। लेकिन अनजाने में आपकी कुछ आदतें आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा देती हैं। आईए जाने किडनी को नया जीवन देने वाले घरेलू उपचार के बारे में।

किडनी के रोग के लिए घरेलू उपचार :
  1. क्रिटनिन और यूरिया वृद्धि, गुर्दे या किडनी फेल होने पर : नीम और पीपल की छाल को बराबर मात्रा में पीसकर अलग-अलग रख लें। दोनों में से 1-1 चम्मच मात्रा लेकर 400 मिलीलीटर पानी में उबाल लें। उबालने पर 100 मिलीलीटर पानी बाकी रहने पर इस पानी को छानकर सुबह-शाम भूखे पेट रोजाना पीने से यूरिया व क्रिटनिन में होने वाली वृद्धि कम हो जाती है।
  2. किडनी की किसी भी समस्या का समाधान : 50 ग्राम मककई (भुट्टे के बाल फ़ोटो में देखे) के ऊपर के बाल ले लीजिये (जो मककई को धक दिया करते हे वो बाल) और 2 लीटर पानी मे उबाल दीजिये हल्के आग पे जब पानी एक लीटर शेष रह जाए वो पानी पूरे दिन मे थोड़े थोड़े अंतराल मे पी लीजिये आपकी किडनी की किसी भी समस्या का समाधान हो जाएगा। सूझ हो या बीमारी सब ठीक होना ही है।
  3. किडनी के कोशों की फिर से बनाए : पूनर्नवा जिसको सटोडी की सब्जी भी बोलते हे ये तो अद्भुत चमत्कारी है। इसके सेवन मात्र से मरे हुए किडनी के कोशों की फिर से नव जीवन प्रदान करती है इसलिए इस का नाम पुनर्नवा है। इसको सब्जी बना कर या फिर इसकी पट्टियाँ सूखा कर पाउडर बनाकर किसी भी सब्जी मे मिलने से सब्जी का स्वाद भी लज्जत दार स्वादिष्ट बन जाता है। इसकी वटी भी उपलब्ध है लगभग 20-25 रुपये मे मिल जाएगी, किसी भी आयुर्वेदिक स्टोर पर।
किडनी को ख़राब होने से बचाने वाले आहार : 
  1. धनिया : धनिया का सेवन करना बहुत ही अच्छा होता है क्योंकि यह पूरे शरीर के लिए लाभकारी होती है। इसका नियमित सेवन करने से किडनी स्‍टोन जैसे रोग को दूर किया जा सकता है। साथ ही यह किडनी को भी साफ रखने का कार्य करती है। पेट की समस्याओं के लिए भी बहुत फ़ायदेमंद होती है। धनिये के सेवन के लिए एक मुट्ठी धनिया ले और इसे अच्छी तरह धो ले। इसके बाद एक बर्तन में एक लीटर पानी ले और उसे गर्म होने के लिए रख दे। जब पानी अच्छी तरह गर्म हो जाए तो उसमे घनिए के छोटे छोटे टुकड़े डाल दे। फिर धनिये को मिनट तक पकने से। अब पानी को ठंडा करके छान ले। इसके बाद इस पानी को प्रति दिन काली पेट पीये। यूरिन के जरिये सारे विषाक्त पदारत बाहर निकल जाते है।
  2. लहसुन : लहसुन में एंटीऑक्सिडेंट तत्व होते हैं जो सूजन को कम करने में सहायता करते हैं। लहसुन का रस किडनी की रीपरफ्यूजन - प्रेरित चोटों को रोकने में मदद करता है।
  3. अदरक : किडनी के कार्य को सुचारु रूप से चलाने के लिए अदरक बहुत ही अच्छा होता है। अदरक संचार प्रणाली को सही रखने, किडनी में रक्त प्रवाह करने रक्त को साफ करने का कार्य करता है। इसके अलावा भी आप हल्दी, अंजीर, प्याज, जामुन, दही, ऑलिव आयल को भी अपने आहार में शामिल कर सकते है। यह भी किडनी को साफ रखने का कार्य करते है। यदि आप चाहे तो इन आहार के सेवन से साथ जूस का भी सेवन कर सकते है जूस भी किडनी को साफ रखने में अपनी अहम् भूमिका निभाते है।
  4. गाजर : गाजर में विटामिन A पाया जाता है जो की किडनी को फ़िल्टर करने का कार्य करता है जिससे विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालने में मदद मिलती है। साथ ही मूत्र पथ के संक्रमणों से भी निजात दिलाने में मदद करता है। यह पेक्टिन क्रिएटिनिन के स्तर को भी कम करता है, जो कि गुर्दे की एक कार्यप्रणाली है जिसके अधिक होने से किडनी पर तनाव बढ़ता है।
  5. सेब : सेब आपकी किडनी के लिए सिर्फ अच्छे नहीं होते हैं बल्कि यह प्रारंभिक अवस्था में किडनी की बीमारी के समग्र दुष्प्रभाव को भी कम कर सकते हैं। वे पेक्टिन का एक अच्छा स्रोत होता है जो कि एक घुलनशील फाइबर होता है और यह कोलेस्ट्रॉल और ग्लूकोज के स्तर को कम कर सकता है। मस्तिष्क कोशिकाओं की भी रक्षा करता है।


<link rel="amphtml" href="https://www.allayurvedic.org/2018/10/Kidney-ke-gharelu-upay.html/amp/">

loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch