Categories

This Website is protected by DMCA.com

कच्चा प्याज खाने वाले ये बाते जानकर उछल पड़ेंगे, पुरुष जरूर पढ़े



  • नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से आपका स्वागत है All Ayurvedic में... दोस्तों हमारी यही कोशिश रहती है कि हम हर दिन आपको अच्छी स्वास्थ्य संबंधित जानकारी दे सके जिससे आप निरोग रहे। दोस्तों अगर आप हमारे Facebook पेज All Ayurvedic (Click here) पर नए हैं तो सबसे पहले हमें लाइक या फॉलो जरूर कर लें जिससे हमारी सभी जानकारी सबसे पहले आपको प्राप्त हो सके. आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि कच्चा प्याज खाने से कौन कौन से फायदे होते हैं आइए जानते हैं इसके अद्भुत फायदों  के बारे में...
  • कच्चा प्याज खाना सेहत के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता हैं. आप प्याज को खाने में सलाद के रूप में कच्चा खा सकते हैं. क्या आप कच्चा प्याज़ खाते हैं? अगर नहीं तो आज से ही कच्चा प्याज खाना शुरु कर दीजिये. क्योंकि कच्चे प्याज में सल्फर और अन्य जरूरी विटामिन्स मौजूद होते हैं. जो शरीर को कई सारी बिमारियों को दूर करता हैं. कच्चे प्याज को आप सलाद, सैंडविच और चाट आदि में डाल कर खा सकते हैं...

कच्चे प्याज (Onion) के 25 चमत्कारी फायदे :
  1. पेट की सफाई : कच्चे प्याज में फाइबर ज्यादा पाया जाता हैं जो पेट के अन्दर चिपके खाने को बाहर निकालता हैं. इसे खाने से पेट की सफाई हो जाती हैं. इसलिए कब्ज़ से परेशान मरीजों को कच्चा प्याज जरूर खाना चाहिए।
  2. रक्त से अशुद्धियों को दूर करे : प्याज में फास्फोरिक एसिड होता है जो हमारे रक्त के लिए ब्लड प्यूरीफायर का काम करता है. प्याज को पीसकर उसका लेप अपने पैरों के तलवों पर लगाकर सो जाएँ इससे फास्फोरिक एसिड आपकी धमनियों में प्रवेश करके रक्त से अशुद्धियों को दूर कर देता है।
  3. पेशाब का ज्यादा आना : 4 प्याजों को पीसकर चटनी बनाकर और उसमें इतना ही गेहूं का आटा डालकर हलवा बना लें. फिर हल्का सा गर्म रहने पर पेट पर इसका लेपकर लेट जायें. इससे पेशाब का ज्यादा आना बंद हो जाएगा।
  4. पुरुषों को जवां बनाये : प्याज के रस और शहद को बराबर मात्रा में मिक्स कर लें. इस मिश्रण का सेवन कमजोर पुरुषों को जवां बनाता है यही नही यह खराब गले और खाँसी के लक्षणों को दूर कर सकता है।
  5. शरीर को शक्तिशाली बनाना : प्याज शहद और मिश्री को एक साथ मिलाकर खाने से पेट से सम्बंधित रोग खत्म हो जाते हैं और शरीर में ताकत की वृद्धि होती है।
  6. नशा उतारना : जो व्यक्ति नशे में होता है उस व्यक्ति को 1 प्याज का रस रोजाना पिलाने से उसका नशा उतर जाता है।
  7. जुकाम : 10-20 मिलीलीटर प्याज के रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर दिन में 2-3 बार चाटने से नजला दूर हो जाता है।
  8. आंखों की रोशनी : प्याज के रस को शहद में मिलाकर आंखों में लगाने से आंखो की रोशनी तेज होती है।
  9. काले दाग : चेहरे के काले दागों पर प्याज का रस लगाने से दागों का कालापन दूर होता है और चेहरे की चमक बढ़ती है।
  10. नकसीर : नकसीर (नाक से खून आने पर) में प्याज का रस नाक में डालने से नाक और गले का संक्रमण ठीक हो करके नकसीर के रोग में लाभ पंहुचता है।
  11. अनिद्रा (नींद का कम आना) : कच्चा लाल प्याज या पकाये हुए प्याज को गर्म राख में पकाकर या इसका रस 4 चम्मच पीने से नींद अच्छी आती है।
  12. ऐंठन : ऐंठन होने और झटके लगने पर प्याज के गर्म-गर्म रस से पैर के तलुओं पर मालिश करने से आराम मिलता है।
  13. कुत्ते काटने पर : प्याज को पीसकर शहद में मिलाकर जानवर के द्वारा काटे हुए अंग (भाग) पर लगाने और प्याज का रस पिलाने से जहर दूर हो जाता है।
  14. मस्से : प्याज का रस लगाने से मस्से नष्ट हो जाते हैं।
  15. मिर्गी : रोजाना सुबह लगभग 72 मिलीलीटर प्याज का रस थोडा-सा पानी मिलाकर पीने से मिर्गी का दौरा बंद हो जाता है। ऐसा कम से कम 40 दिनों तक कर सकते हैं। मिर्गी के दौरे में प्याज का रस सूंघने से होश में आ जाता है।
  16. कान में दर्द : कान में दर्द, कान में पीव और कान में आवाज आना और बहरापन होने पर प्याज के रस को थोड़ा-सा गर्म करके उसकी 5-7 बूंदे कान में डालने से लाभ मिलता है।
  17. गंज (सिर पर कहीं से बाल उड़ जाने को गंज कहते हैं) : गंज वाले भाग पर प्याज का रस रगड़ने से बाल वापस उगने लगते हैं और बाल गिरने रुक जाते हैं।
  18. हिचकी : प्याज को काटकर और धोकर नमक डालकर रोगी को खिलाने से हिचकी रुक जाती है।
  19. कब्ज : कच्चा प्याज रोजाना भोजन के साथ खाने से कब्ज का रोग ठीक होता है। या प्याज के काढ़े को बनाकर रोज 40 मिलीलीटर दिन में 2-3 बार सेवन करने से लाभ होता है।
  20. पेट में कृमि (कीड़े) और अजीर्ण : 1 चम्मच प्याज के रस को हर 2-2 घंटे के बाद रोगी को पिलाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं और बदहजमी भी ठीक हो जाती है।
  21. अम्लपित्त (एसिडिटी) : 60 ग्राम सफेद प्याज के टुकड़ों को 30 ग्राम दही में मिलाकर रोजाना 3 बार खाने से कम से कम 7 दिनों तक सेवन करने से अम्लपित्त (एसिडिटी) के रोग में लाभ होता है।
  22. बिवाइयां (पैरों की एड़ियों का फटना) : कच्चा प्याज पीसकर एड़ियों पर बांधने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं।
  23. खूनी बवासीर : 100 मिलीलीटर प्याज के रस में 50 ग्राम शक्कर मिलाकर पीने से खूनी बवासीर के रोग में लाभ मिलता है।
  24. हाथ-पैरों की अकड़न : हाथ-पैरों का ऐंठन या अकड़न दूर करने के लिए प्याज का रस निकालकर गर्म करके गर्म-गर्म रस को पैरों के तलवों पर मालिश करने से अकड़न ठीक हो जाती है।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch