Categories

This Website is protected by DMCA.com

गाठिया के रोगियों के लिए वरदान है ये उपाय, सिर्फ 1 सप्ताह में मिलेंगे अद्भुत परिणाम


  • आज कल हमारी दिनचर्या हमारे खान-पान से गठिया का रोग 45-50 वर्ष के बाद बहुत से लोगो में पाया जा रहा है । हमारे शरीर के जोडों में दर्द होता है, गठिया के पीछे यूरिक एसीड की बड़ी भूमिका रहती है। इसमें हमारे शरीर मे यूरिक एसीड की मात्रा बढ जाती है। यूरिक एसीड के कण घुटनों व अन्य जोडों में जमा हो जाते हैं। जोडों में दर्द से रोगी का बुरा हाल रहता है। इस रोग में रात को जोडों का दर्द बढता है और सुबह अकडन मेहसूस होती है। इसकी पहचान होने पर इसका जल्दी ही इलाज करना चाहिए अन्यथा जोडों को बड़ा नुकसान हो सकता है।हम यहाँ पर गठिया के अचूक घरेलू उपाय बता रहे है जिससे आप अपनी देखभाल खुद घर बैठे कर सकते है।
मनुष्यों के शरीर के कई भाग होते हैं तथा उम्र के अनुसार गठिया रोग कई प्रकार का होता है :
  1. रूमेटाइड आर्थराईटिस : इस गठिया रोग के कारण छोटी उंगुलियों के जोड़, उंगलियां, कोहनियों, कलाइयों, घुटनों, टखनों आदि में दर्द होने लगता है तथा इन अंगों में अकड़न हो जाती है। हडि्डयों के जोड़ों में सूजन आ जाने के कारण उपस्थियां तो क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तथा इसके साथ में जो मांसपेशियां, कंडराएं तथा कोशिकाएं होती हैं उनमें विकृतियां उत्पन्न हो जाती हैं जिसके कारण रोगी व्यक्ति में विकलांगपन जैसी समस्या हो जाती है। यह रोग पुरुषों से अधिक महिलाओं को होता है।
  2. ऑस्टियो आर्थराईटिस : इस प्रकार का गठिया रोग उम्र के बढ़ने के साथ होने वाला एक सामान्य रोग है जो हडि्डयों के जोड़ों के घिस जाने के कारण होता है। इस रोग के कारण रोगी के नितम्ब, रीढ़ की हड्डी, घुटने अधिक प्रभावित होते हैं। कभी-कभी यह रोग उंगुलियों के जोड़ों में भी हो जाता हैं। इस रोग के कारण इन अंगों में तेज दर्द होता है।
  3. गाउटी आर्थराईटिस : इस गठिया रोग के हो जाने के कारण पैर के पंजों में बहुत तेज दर्द होता है और यह दर्द इतना अधिक होता है कि पंजों को हल्के से छूने पर रोगी अपना पंजा एक ओर को हटाने लगता है। जब यह रोग अधिक पुराना हो जाता है तो इससे संबन्धित हडि्डयां धीरे-धीरे क्षतिग्रस्त होने लगती हैं जिसके कारण व्यक्ति में विकलांगता उत्पन्न हो जाती है। गाऊट गठिया रोग से पीड़ित लगभग 10 प्रतिशत रोगी पथरी रोग के शिकार (रोगी हो जाना) हो जाते हैं। यह रोग पुरुषों को अधिक होता है।
  4. सर्वाकल स्पोंडिलाईसिस : इस रोग के कारण गर्दन की हडि्डयों और कमर के निचले भाग में तेज दर्द तथा अकड़न हो जाती है।
आवश्यक सामग्री :

  1. 25 ग्राम सरसों तैल
  2. 10 ग्राम नीम की कोपलें

बनाने की विधि :

  • 25 ग्राम सरसों के तैल को पकाकर (खूब खौलने तक पकायें) उसमें 10 ग्राम नीम की कोपलें डालकर काली पड़ने दें (जलने से पहले ही उतार लें) फिर इसवने छानकर तैल को पुनः गुनगुना करके गठिया से आक्रान्त अंगों पर मालिश करें तथा इसी तैल से शाक-भाजी बनाकर खायें । 
  • गठिया के लिए अक्सीर योग है। अथवा महानिम्ब (बकायन) के बीज को पीसकर दो ग्राम की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सेवन करें । सुन्न पड़ गये अंगों को इस योग के सेवन करने से चैतन्यता मिलती है। 

गठिया को जड़ से खत्म करने के रामबाण उपाय :
  1. दो बडे चम्मच शहद और एक छोटा चम्मच दालचीनी का पावडर सुबह और शाम एक गिलास मामूली गर्म जल से लें। एक शोध में कहा है कि चिकित्सकों ने नाश्ते से पूर्व एक बडा चम्मच शहद और आधा छोटा चम्मच दालचीनी के पावडर का मिश्रण गरम पानी के साथ दिया। इस प्रयोग से केवल एक हफ़्ते में 30 प्रतिशत रोगी गठिया के दर्द से मुक्त हो गये। एक महीने के प्रयोग से जो रोगी गठिया की वजह से चलने फ़िरने में असमर्थ हो गये थे वे भी चलने फ़िरने लायक हो गये।
  2. पारिजात पेड़ के पांच पत्ते तोड़ के पत्थर में पिस ले और चटनी बनाइये फिर एक ग्लास पानी में इतना गरम कीजिये की पानी आधा हो जाये फिर इसको ठंडा करके पीजिये तो बीस-बीस साल पुराना गठिया का दर्द ठीक हो जाता है। यह उपाय लगातार कुछ महिनो तक करने से गठिया का ख़ात्मा हो जाता है, आपको गठिया से पूरी तरह से आराम मिल सकता है।
  3. अगर घुटनों की चिकनाई (Smoothness) हो गई हो और जोड़ो के दर्द में किसी भी प्रकार की दवा से आराम ना मिलता हो तो ऐसे लोग हारसिंगार (पारिजात) पेड़ के 10-12 पत्तों को पत्थर पे कूटकर एक गिलास पानी में उबालें-जब पानी एक चौथाई बच जाए तो बिना छाने ही ठंडा करके पी लें- इस प्रकार 90 दिन में चिकनाई पूरी तरह वापिस बन जाएगी। अगर कुछ कमी रह जाए तो फिर एक माह का अंतर देकर फिर से 90 दिन तक इसी क्रम को दोहराएँ निश्चित लाभ की प्राप्ति होती है।
  4. लहसुन की 10 कलियों को 100 ग्राम पानी एवं 100 ग्राम दूध में मिलाकर पकाकर उसे पीने से दर्द में शीघ्र ही लाभ होता है।
  5. गुग्गुल और सोंठ का चूर्ण समान मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें और इसे घी में मिलाकर लेप बना लें। इस लेप को जोड़ों पर लगानें से आराम मिलता है। 3 ग्राम शुद्ध की हुई गुग्गुल को 10 ग्राम घी और 3 ग्राम शहद के साथ सेवन करने से जोड़ा के दर्द से आराम मिलता है। 240 से 960 मिलीग्राम की मात्रा में गुग्गुल को शिलाजीत के साथ मिलाकर दिन में 2 से 3 सेवन करें इससे गठिया के दर्द में आराम मिलता है।  10 ग्राम गुग्गुल लेकर इसे 20 ग्राम गुड़ में मिलाकर पीसकर इसकी छोटी-छोटी गोलिया बना लें। सुबह-शाम कुछ दिनों तक 1-1 गोली घी के साथ लेने से घुटने का दर्द दूर हो जाता है।
  6. नागफनी के मोटे कांटेदार पत्तों से कांटे अलग कर लें। कांटों को खड्डे मिट्टी में गाढा दें, क्योंकि कांटे तेज नुकीले होते हैं। नांगफली से कांटें निकालने के बाद हल्की आंच में उबाल लें। पानी पूरी तरह से सूख जाने के बाद ठंड़ा हल्का होने दें। फिर उसमें जैतून तेल, कच्ची हल्दी, लहसुन कलियां मिलाकर फिर हल्की आंच में पकायें। ठंड़ हल्का गुनगुना होने पर गठिया दर्द सूजन वाली जगह पर पेस्ट कर मालिश करें। सूजन वाले अंगों पर पट्टी के साथ मल कर बांध दें। यह नागफनी औषधी तेजी से गठिया दर्द ठीक करने में सहायक है। इस तरह से नागफनी गठिया सूजन दर्द से तुरन्त आराम निजात दिलाने में सक्षम है।
भोजन तथा परहेज :

  1. गेहूं की रोटी, घी और शक्कर (चीनी) डाला हुआ हलुवा, साठी चावल-पुनर्नवा के पत्तों का साग, अनार, आम, अंगूर, अरण्डी का तेल और अग्निमान्द्य (पाचनक्रिया का मन्द होना) न हो तो उड़द की दाल ले सकते हैं।
  2. वातरोग में चना, मटर, सोयाबीन, आलू, मूंग, तोरई, कटहल, ज्यादा मेहनत, रात में जागना, व्रत करना, ठंड़े पानी से नहाना जैसे कार्य नहीं करने चाहिए। रोगी को उड़द की दाल, दही, मूली आदि चीजें नहीं खानी चाहिए क्योंकि यह सब चीजें कब्ज पैदा करती है।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch