Categories

पुरुष जरुर पढ़े - कमजोरी दूर करने के 4 सबसे आसान उपाय



  • आये दिन लोगो में कई प्रकार की समस्याए देखने को मिल रही है| आजकल के प्रदूषित वातावरण, गलत खान-पान और गलत रहन-सहन के कारण कई लोग अन्दर से बीमार है| आज ज्यादातर पुरुष कमजोरी की समस्या से परेशान है| वह इस बात को किसी को नहीं बताते जिस कारण से वह अन्दर से हमेशा तनाव में रहते है| अगर आप भी शारीरिक कमजोरी से परेशान है| तो यह उपाय जरुर अपनाए|
  • भारत के कई युवा और बुजुर्ग कमजोरी से ग्रसित हैं। अगर आपको भी शारीरिक कमजोरी महसूस होती है तो ये पोस्ट आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। आज हम आपको शारीरिक कमजोरी दूर करने के उपाय के बारे में बताएँगे। यह उपाय बेहद सफल और कारगर है। सबसे अच्छी बात ये है की इसका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है और इसका सेवन बेहद आसान है। इस खबर को पूरा पढ़ने के बाद आप शारीरिक कमजोरी से आसानी से लड़ पाएंगे।
  • शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए वैसे तो बहुत सारे उपाय बताये गए हैं परन्तु उनमे से कुछ ही कारगर हैं जिनका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है। लोग शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए अंग्रेजी दवाओं से लेकर नीम हकीम तक सब आजमा लेते हैं पर इसका कुछ फायदा नहीं होता। आज जो उपाय हम आपको बताएँगे उससे आपके शरीर की कमजोरी हमेशा के लिए दूर हो जाएगी और आपका शरीर बेहद स्वस्थ हो जायेगा।

पुरुषों की कमजोरी दूर करने के घरेलु उपाय :

  1. अंकुरित चना : चना आपको आसानी से किसी भी दूकान में मिल जाएगा| रोजाना सुबह चने को पानी में डालकर फूलने को छोड़ दे जब फुल जाए| तब उसे निकालकर एक कपडे में बाँध कर रख दे| अगली सुबह उस चने को गुड़ के साथ खाए| कुछ ही दिनों में आपके शरीर से कमजोरी हमेशा के लिए दूर हो जायेगी|
  2. खजूर : खजूर में कई ऐसे तत्व मौजूद होते है जो हमारे शरीर को ताकत और भरपूर मात्रा में एनर्जी देती है| रोजाना 4 से 5 खजूर खाकर एक ग्लास दूध पीने से शारीरिक कमजोरी दूर हो जारी है|
  3. अखरोट : आठ अखरोट की गिरी और चार बादाम की गिरी और दस मुनक्का को रोजाना सुबह के समय खाकर ऊपर से दूध पीने से वृद्धावस्था की निर्बलता भी दूर हो जाती है।
  4. पुनर्नवा : पुनर्नवा के पत्तों के 100 ग्राम स्वरस में मिश्री चूर्ण 200 ग्राम व पिप्पली (पीपर) चूर्ण 12 ग्राम मिलाकर पकायें तथा चाशनी गाढ़ी हो जाने पर उसको उतार के छानकर शीशी में रख लें । इस शरबत को 4 से 10 बूँद की मात्रा में (आयु अनुसार) रोगी बालक को दिन में तीन-चार बार चटायें । पौरुष कमज़ोरी, खाँसी, श्वास, फेपडों के विकार, बहुत लार बहना, जिगर बढ़ जाना, सर्दी-जुकाम, हरे-पीले दस्त, उलटी तथा बच्चों की अन्य बीमारियों में बाल-विकारशामक औषधि कल्प के रूप में इसका उपयोग बहुत लाभप्रद है ।
  5. किशमिश : सुबह के समय लगभग 25 से 30 किशमिश को गर्म पानी से धोकर साफ कर लें और फिर इसे कच्चे दूध में डाल दें। आधे या एक घंटे बाद किशमिशों को दूध के साथ गर्म करके खाएं और ऊपर से दूध पी लें। इससे शरीर में खून बढ़ता है, ठंडक दूर होती है, पुरानी बीमारी, अधिक कमजोरी, यकृत/लिवर की खराबी और बदहजमी दूर होती है।
  6. अंजीर : सूखे अंजीर के टुकड़े और छिली हुई बादाम गर्म पानी में उबालें। इसे सुखाकर इसमें दानेदार शक्कर, पिसी इलायची, केसर, चिरौंजी, पिस्ता और बादाम बराबर मात्रा में मिलाकर 8दिन तक गाय के घी में पड़ा रहने दें। बाद में रोजाना सुबह 20 ग्राम तक सेवन करें। छोटे बालकों की शक्तिक्षीण के लिए यह औषधि बड़ी हितकारी है। या पके अंजीर को बराबर की मात्रा में सौंफ के साथ चबा-चबाकर सेवन करें। इसका सेवन 40 दिनों तक नियमित करने से शारीरिक दुर्बलता दूर हो जाती है।
  7. छुहारे : कमजोरी दूर करने का एक बेहतर उपाय है| छुहारे को दूध में उबालकर रोज सुबह शाम दो-दो चम्मच सेवन करे| अगर आपको दूध में छुहारे उबालने नहीं आता तो आप पिछले पोस्ट पढ़ कर जान सकते है|
  8. भुना लहसुन : रिसर्च में ये भी पाया गया है कि भुना हुआ लहसुन आपके लिए शिलाजीत का भी काम करता है। दरअसल इसमें एलिसिन होता है। इससे हार्मोन्स का लेवल बैलेंस हो जाता है। इस तरह से आप शारीरिक कमज़ोरी से भी बच सकते हैं। कई लोगों में ये शिकायतें होती हैं। इसलिए ऐसे लोगों को रोजाना एक भुना लहसुन की कली का सेवन करना लाभप्रद बताया गया है।
  9. आंवले का मुरब्बा : आंवला में वो सभी पोष्टिक तत्व मौजूद होते है जो हमारे शरीर में भरपूर मात्रा में ऊर्जा प्रदान करती है| साथ ही रोजाना सुबह खाली पेट एक आंवले का मुरब्बा खाने से शरीर ताकतवर और एनर्जेटिक बन जाता है|
  10. बरगद का फल  : बरगद के फल छाया में सुखाकर चूर्ण बना लें। गाय के दूध के साथ यह 1 चम्मच चूर्ण खाने से कमज़ोर शरीर भी बलवान बनता है। या 1 भाग बरगद की कोंपल (मुलायम पत्तियां), 1 भाग गूलर की छाल और 2 भाग चीनी मिलाकर चूर्ण बना लें। 21 दिन तक 10 ग्राम चूर्ण रोजाना दूध के साथ खाने से शारीरिक कमज़ोरी समाप्त हो जाती है। या बरगद के पेड़ के फल को सुखाकर बारीक पाउडर लेकर मिश्री के बारीक पाउडर मिला लें। रोजाना सुबह इस पाउडर को 6 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ सेवन से हर प्रकार की शारीरिक कमज़ोरी दूर होती है, वैवाहिक जीवन से जुड़े सभी रोग दूर होते हैं। यह उपाय पुरुषों के लिए बहुत कारगर और प्रभावी है।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch