Categories

यूरिक ऐसिड बढ़ गया है, शरीर में जकड़न सी रहती है, हाथ पैर काम नही करते तो अपनाएँ इस चमत्कारी घरेलु उपाय को



  • आजकल यूरिक एसिड, संधिवात आधुनिक जीवन शैली का एक गंभीर रोग है। यूरिक एसिड बनने की समस्या को कभी हल्के में नहीं लेना चाहिए। हड्डियों के लिए यह अभिशाप की तरह होता है।ज्यादातर केसों में इस से विभिन्न विभिन्न लक्षण देखे जाते हैं। प्रारंभिक अवस्था में शरीर में जकड़न देखी जाती है। बाद में छोटे जोड़ों में दर्द शुरू होता है। बेध्यानी करने पर जब जोड़ों के स्थान से हड्डियां सड़ने लग जाती हैं तो इलाज मुश्किल होना शुरू हो जाता है।
  • एलोपैथी में इस के लिए प्रयोग की जाने वाली औषधियां शरीर के लिए नुकसानदेह होने के कारण सयाने डाक्टर इन का प्रयोग सावधानी से करने की सलाह देते हैं। कमजोर पाचन प्रणाली के कारण इस समस्या में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन बंद करना जरूरी होता है। साग,पालक जैसे पदार्थ भी नहीं लेने चाहिए। शरीर में यदि यूरिक एसिड बढ़ जाए तो इससे आपको कोई समस्या हो जाती हैं और अगर आप अपने शरीर में बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम करना चाहते हैं तो आप कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं. और यूरिक एसिड के बढ़ने से हमारे शरीर के जोड़ों में दर्द होना शुरू हो जाता है. हमारे शरीर में यूरिक एसिड प्यूरिन के टूटने से बनता है इसका मतलब आप जो भी खाना खाते हैं. उसके अंदर उसमें मौजूद तत्व आपके प्यूरिन की बॉन्डिंग को टूटती है और इससे यूरिक एसिड लेवल बढ़ जाता है। यूरिक एसिड कम करने के घरेलू उपचार बहुत ही सरल है।
  • यूरिक एसिड लेवल या यूरिक एसिड का बढ़ना आप पहले से किस प्रकार पता कर सकते हैं इसके कई लक्षण होते हैं जैसे आप के जोड़ों में सूजन आ जाती है और आपके पैरों के अंगूठे में भी सूजन आने लगती है,  आपके शरीर के जोड़ों में गांठ पड़ जाती है, उन जोड़ों में बहुत तेज दर्द होने लगता है, सीढ़ियां चढ़ने या उठने बैठने पर जोड़ों में बहुत अधिक दर्द होता है। यदि आप किसी एक जगह पर ज्यादा देर तक बैठे रहते हैं, तो भी आपको बहुत तेज दर्द होता है।
  •  यूरिक एसिड के बढ़ने के कुछ लक्षण है. यूरिक एसिड हमारे शरीर से पेशाब के रूप में बाहर निकलता है, लेकिन कभी-कभी यूरिक एसिड हमारे शरीर के भीतर ही रह जाता है। 30 वर्ष की उम्र के बाद अक्सर लोगों को गठिया और उसमें दर्द व सूजन की शिकायत होने लगती है। और गलत खानपान से यह तकलीफ बढ़ भी सकती है। शरीर में यूरिक  एसिड का स्तर बढ़ने पर भी इस तरह की समस्याओं में इजाफा होता है। यूरिक एसिड कम करने के घरेलू उपचार बहुत ही आसान है।
➡ यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण :
  • जितना हो सके चेरी का सेवन करें क्योंकि चेरी में एंटीइंफ्लेमेटरी तत्व होते हैं. यूरिक एसिड की मात्रा को शरीर में नियंत्रित रखते हैं यदि आप प्रतिदिन तीसरी करते हैं शरीर में बढ़े हुए यूरिक एसिड को नियंत्रित कर सकते हैं लेकिन ध्यान रहे सभी को एक साथ ना लें और चेरी को थोड़े समय के अंतराल में खाएं और जितना हो सके अपने भोजन में विटामिन सी की मात्रा यदि आप प्रतिदिन 500 ग्राम विटामिन सी का सेवन करते हैं तो आपके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा नियंत्रित हो जाएगी।
  • पर जितना हो सके मछली और मीट यानी मांस का सेवन ना करें क्योंकि यह आपके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा को बहुत तेजी से बढ़ाते हैं कुछ ऐसी मछलियां होती हैं जिन्हें नहीं खाना चाहिए जैसे साइनस साइनस और नगरी नगरी कतई ना खाएं और यदि आप अल्कोहल का सेवन करते हैं यानि शराब का सेवन करते हैं तो आपके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बहुत तेजी से बढ़ेगी इसीलिए आप शराब का सेवन ना करें और डिब्बाबंद खाने का सेवन ना करें।
  • क्योंकि डिब्बाबंद खाने में पौष्टिक पोस्टिक तत्व खत्म हो जाते हैं. यूरिक एसिड की मात्रा को नियंत्रित नहीं कर पाते हैं शराब आपके शरीर को डिहाइड्रेट कर देता है, इसलिए प्यूरिन से उच्च खाद्य पदार्थों के शराब की बड़ी मात्रा को लेने से बचना चाहिए. बीयर में यीस्ट भरपूर होता है, इसलिए इसके सेवन से दूर रहना चाहिये. हालांकि वाइन यूरिक एसिड के स्तर को प्रभावित नहीं करती है. यूरिक एसिड बढ़ने से कई प्रकार की समस्याएं होती हैं और यह किन का यह किन कारणों से होती है।
➡ आइये जाने आयुर्वेद में इसके घरेलु उपचार : 
  1. लौकी : अगर लौकी का मौसम हो तो सुबह खाली पेट लौकी (घीया, दूधी) का जूस निकाले एक गिलास इस में 5-5 पत्ते तुलसी और पुदीना के भी डाल ले, अब इसमें थोड़ा सेंधा नमक मिला ले। और इसको नियमित पिए कम से कम 30 से 90 दिन तक।
  2. अर्जुन की छाल : रात को सोते समय डेढ़ गिलास साधारण पानी में अर्जुन की छाल का चूर्ण एक चम्मच और दाल चीनी पाउडर आधा चम्मच डाल कर चाय की तरह पकाये और थोड़ा पकने पर छान कर निचोड़ कर पी ले। ये भी 30 से 90 दिन तक करे।
  3. चोबचीनी : चोबचीनी का आधा चम्मच सवेरे खाली पेट और रात को सोने के समय पानी से लेने पर कुछ दिनों में यूरिक एसिड खत्म हो जाता है। यह उपाय बहुत प्रभावी है।
  4. पपीता : एक कच्चा हरा पपीता अंदाजा एक किलो तक के वजन का ले कर अच्छी तरह धो लें।फिर समेत छिलके उसके छोटे छोटे पीस काट लें।फिर किसी पतीले में डाल कर इस में तीन किलो पानी मिला दें और इस में पांच पैकेट ग्रीन टी (या किसी कपड़े में बांधकर दो बड़े चम्मच) के डाल कर 15 मिनट तक चाय की तरह उबालकर इसे छान लें।पूरा दिन यही पानी पीना है।अंदाजा 5 से 6 गिलास । 14 दिन लगातार पीने से यूरिक एसिड खत्म हो जाता है। 14 दिन लगातार प्रयोग करने के बाद जब टेस्ट वगैरह नार्मल हो जाएं तो बाद में 7 दिन में एक बार प्रयोग करने से यूरिक एसिड की समस्या नहीं होगी।
  5. इलायची और पान का पत्ता : इसका जानना भी जरूरी है शरीर में यदि आपका मेटाबॉलिज्म किस तरह से काम कर रहा है और आपकी पाचन क्रिया सही हैं तो आपको इसकी समस्या नहीं होगी फिर कैसेट के कारण बढ़ने के कारण यूरिक एसिड के बढ़ने के कारण शरीर में स्टोन भी बन जाता है लेकिन यह भी उनको स्टोन की समस्या आएगा। यूरिक एसिड कम करने के घरेलू उपचार बहुत ही आसान है। यदि शरीर में स्टोन की समस्या बढ़ जाती है तो उसे आपकी किडनी भी फेल हो सकती है और इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप इलायची पान का पत्ता और सुपारी इनका सेवन करें इससे शरीर में स्टोन की समस्या खत्म हो जाती है।
  6. हरी प्याज : छोटी-छोटी लहसुन लें और इसे पानी के साथ मिलाकर सुबह पीने से आपका शरीर का कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है और शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा भी कम हो जाती है और यह आपके शरीर को डिटॉक्स भी करती है लेकिन इसे काट कर ना खाएं इसे आप कैप्सूल की तरह ही लें हरी प्याज का सेवन करें क्योंकि यह आपके शरीर में प्रोटीन को बढ़ाता और मेटाबॉलिज्म को भी बढ़ाता है। यूरिक एसिड कम करने के घरेलू उपचार से आप पूरी तरह रोग मुक्त हो जायेंगे।
  7. गुडूच्यादि काढ़ा : गुडूच्यादि काढ़ा (ये आपको किसी भी पंसारी या आयुर्वेदिक दवा केंद्र पर मिल जायेगा) दो समय पिए।
  8. पानी : दिन में कम से कम 3-5 लीटर पानी का सेवन करें। पानी की पर्याप्त मात्रा से शरीर का यूरिक एसिड पेशाब के रास्ते से बाहर निकल जाएगा। थोड़ी – थोड़ी देर में पानी को जरूर पीते रहें।
➡ परहेज : 
  1. दही, चावल, अचार, ड्राई फ्रूट्स, दाल, और पालक बंद कर दे।
  2. रात को सोते समय दूध या दाल का सेवन अत्यंत हानिकारक हैं।
  3. सब से बड़ी बात के खाना खाते समय पानी नहीं पीना, पानी खाने से डेढ़ घंटे पहले या बाद में ही पीना हैं।
  4. फ़ास्ट फ़ूड, कोल्ड ड्रिंक्स, पैकेज्ड फ़ूड, अंडा, मांस, मछली, शराब, और धूम्रपान बिलकुल बंद कर दे।

विशेष : इन प्रयोग से आपकी यूरिक एसिड की समस्या, हार्ट की कोई भी समस्या, जोड़ो के दर्द, हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में बहुत आराम आएगा।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch