Categories

This Website is protected by DMCA.com

ये फल 21 दिनो में आपके कमज़ोर शरीर को बलवान बना सकता है, शक्तिवर्द्धक और बल वृद्धि करता है, सुन्दर सन्तान के लिए वरदान है



  • भारत के कई युवा और बुजुर्ग कमजोरी से ग्रसित हैं। अगर आपको भी शारीरिक कमजोरी महसूस होती है तो ये पोस्ट आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। आज हम आपको शारीरिक कमजोरी दूर करने के उपाय के बारे में बताएँगे। यह उपाय बेहद सफल और कारगर है। सबसे अच्छी बात ये है की इसका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है और इसका सेवन बेहद आसान है। इस खबर को पूरा पढ़ने के बाद आप शारीरिक कमजोरी से आसानी से लड़ पाएंगे।
  • शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए वैसे तो बहुत सारे उपाय बताये गए हैं परन्तु उनमे से कुछ ही कारगर हैं जिनका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है। लोग शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए अंग्रेजी दवाओं से लेकर नीम हकीम तक सब आजमा लेते हैं पर इसका कुछ फायदा नहीं होता। आज जो उपाय हम आपको बताएँगे उससे आपके शरीर की कमजोरी हमेशा के लिए दूर हो जाएगी और आपका शरीर बेहद स्वस्थ हो जायेगा।भारत में बरगद के पेड़ को पवित्र माना जाता है। इसे पर्व या त्यौहार पर पूजा जाता है। इसका पेड़ बहुत ही बड़ा व विशाल होता है। बरगद की शाखाओं से जटाएं लटककर जमीन तक पहुंचती हैं और तने का रूप ले लेती हैं जैसे-जैसे पेड़ पुराना होता जाता है, वैसे-वैसे इसका घेरा बढ़ता ही जाता है। यह भारत में हर जगहों पर मन्दिरों व कुओं के आस-पास पाया जाता है।
  • इसके पत्ते कड़े, मोटे, अंडाकार, निचला भाग खुरदरा, ऊपरी भाग चिकनापन लिए होता है। इन्हें तोड़ने पर दूध निकलता है। बरगद के पेड़ में फूल जाती हुई ठंड में और फल बारिश के महीनों में लगते हैं। फरवरी-मार्च के महीनों में बरगद की पत्तियां गिर जाती है और बाद में नए पत्ते निकलते हैं।पकने पर फलों का रंग लाल हो जाता है। पेड़ की शाखाओं से जटायें लटकने के कारण इसे आसानी से पहचाना जा सकता है।



कमजोरी दूर करने के 3 चमत्कारी उपाय
  1. कमज़ोर शरीर को बलवान बनाएँ : बरगद के फल छाया में सुखाकर चूर्ण बना लें। गाय के दूध के साथ यह 1 चम्मच चूर्ण खाने से कमज़ोर शरीर भी बलवान बनता है। या 1 भाग बरगद की कोंपल (मुलायम पत्तियां), 1 भाग गूलर की छाल और 2 भाग चीनी मिलाकर चूर्ण बना लें। 21 दिन तक 10 ग्राम चूर्ण रोजाना दूध के साथ खाने से शारीरिक कमज़ोरी समाप्त हो जाती है।
  2. शक्तिवर्द्धक और बल वृद्धि : बरगद के पेड़ के फल को सुखाकर बारीक पाउडर लेकर मिश्री के बारीक पाउडर मिला लें। रोजाना सुबह इस पाउडर को 6 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ सेवन से हर प्रकार की शारीरिक कमज़ोरी दूर होती है, वैवाहिक जीवन से जुड़े सभी रोग दूर होते हैं।
  3. सुन्दर सन्तान के लिए : बरगद के पके हुए फल और पीपल के फल को सुखाकर बारीक चूर्ण बना लें इस 25 ग्राम चूर्ण को 25 ग्राम घी में भूनकर, हलवा बना लें इसे सुबह-शाम खाने से ऊपर से बछड़े वाली गाय का दूध पीने से विशेष बल वृद्धि होती है। अगर स्त्री-पुरुष दोनों खायें तो शरीर शुद्ध हो जाएगा जिससे सुन्दर सन्तान जन्म लेती है।
बरगद के अन्य चमत्कारी फ़ायदे :
  1. चोट लगने पर : बरगद का दूध चोट, मोच और सूजन पर दिन में 2-3 बार लगाने और मालिश करने से फायदा होता है।
  2. पैरों की बिवाई : बिवाई की फटी हुई दरारों पर बरगद का दूध भरकर मालिश करते रहने से कुछ ही दिनों में वह ठीक हो जाती है।
  3. कमर दर्द : कमर दर्द में बरगद़ के दूध की मालिश दिन में 3 बार कुछ दिन करने से कमर दर्द में आराम आता है। बरगद का दूध अलसी के तेल में मिलाकर मालिश करने से कमर दर्द से छुटकरा मिलता है।
  4. आग से जल जाना : दही के साथ बड़ को पीसकर बने लेप को जले हुए अंग पर लगाने से जलन दूर होती है। जले हुए स्थान पर बरगद की कोपल या कोमल पत्तों को गाय के दही में पीसकर लगाने से जलन कम हो जाती है।
  5. ज्यादा पेशाब का आना : बड़ की छाल के चूर्ण को आधा चम्मच की मात्रा में एक कप पानी के साथ दिन में 3-4 बार रोज खाने से बार-बार पेशाब आने के रोग में फायदा होता है।
  6. प्रदर : प्रदर रोग में बरगद के पेड़ का दूध 5-10 बूंद दिन में 4 बार देने से प्रदर की रोगी स्त्री को देने से आराम आता है। 100 ग्राम ताजे बड़ की छाल को छाया में सुखाकर पीसकर और छानकर 5-5 ग्राम कच्चे दूध के साथ सुबह-शाम सेवन करने से प्रदर रोग में लाभ मिलता है।
  7. बालों के रोग : बरगद के पत्तों की 20 ग्राम राख को 100 मिलीलीटर अलसी के तेल में मिलाकर मालिश करते रहने से सिर के बाल उग आते हैं। बरगद के साफ कोमल पत्तों के रस में, बराबर मात्रा में सरसों के तेल को मिलाकर आग पर पकाकर गर्म कर लें, इस तेल को बालों में लगाने से बालों के सभी रोग दूर हो जाते हैं। 25-25 ग्राम बरगद की जड़ और जटामांसी का चूर्ण, 400 मिलीलीटर तिल का तेल तथा 2 लीटर गिलोय का रस को एकसाथ मिलाकर धूप में रख दें, इसमें से पानी सूख जाने पर तेल को छान लें। इस तेल की मालिश से गंजापन दूर होकर बाल आ जाते हैं और बाल झड़ना बंद हो जाते हैं।
  8. घने और लंबे बाल : बरगद की जटा और काले तिल को बराबर मात्रा में लेकर खूब बारीक पीसकर सिर पर लगायें। इसके आधा घंटे बाद कंघी से बालों को साफ कर ऊपर से भांगरा और नारियल की गिरी दोनों को पीसकर लगाते रहने से बाल कुछ दिन में ही घने और लंबे हो जाते हैं।
  9. दांत के दर्द में : 10 ग्राम बरगद की छाल, कत्था और 2 ग्राम कालीमिर्च इन तीनों को खूब बारीक पाउडर बनाकर मंजन करने से दांतों का हिलना, मैल, बदबू आदि रोग दूर होकर दांत साफ हो जाते हैं।
  10. नाक से खून बहना : 3 ग्राम बरगद की जटा के बारीक पाउडर को दूध की लस्सी के साथ पिलाने से नाक से खून बहना बंद हो जाता है।
  11. नींद का अधिक आना : बरगद के कड़े हरे शुष्क पत्तों के 10 ग्राम दरदरे चूर्ण को 1 लीटर पानी में पकायें, चौथाई बच जाने पर इसमें 1 ग्राम नमक मिलाकर सुबह-शाम पीने से हर समय आलस्य और नींद का आना कम हो जाता है।
  12. आंख का फूलना : बरगद के 10 मिलीलीटर दूध में 125 मिलीग्राम कपूर और 2 चम्मच शहद मिलाकर आंखों पर लगाने से आंखों का फूलना बंद हो जाता है।
  13. हृदय के रोग : 10 ग्राम बरगद के कोमल हरे रंग के पत्तों को 150 मिलीलीटर  पानी में खूब पीसकर छानकर उसमें थोड़ी मिश्री मिलाकर सुबह-शाम 15 दिन तक सेवन करने से दिल की घड़कन सामान्य हो जाती है।
  14. कफ (बलगम) रोग में : बरगद की कोमल शाखाओं को ठंडे पानी या बर्फ के संग 10-20 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से कफ (बलगम) के रोग में फायदा होता है।
  15. भगन्दर : बरगद के पत्ते, सौंठ, पुरानी ईंट के पाउडर, गिलोय तथा पुनर्नवा की जड़ का चूर्ण समान मात्रा में लेकर पानी के साथ पीसकर लेप करने से भगन्दर के रोग में फायदा होता है।
  16. बादी बवासीर : 20 ग्राम बरगद की छाल को 400 मिलीलीटर पानी में पकायें, पकने पर आधा पानी रहने पर छानकर उसमें 10-10 ग्राम गाय का घी और चीनी मिलाकर गर्म ही खाने से कुछ ही दिनों में बादी बवासीर में लाभ होता है।
  17. खूनी बवासीर : बरगद के 25 ग्राम कोमल पत्तों को 200 मिलीलीटर पानी में घोटकर खूनी बवासीर के रोगी को पिलाने से 2-3 दिन में ही खून का बहना बंद होता है। बवासीर के मस्सों पर बरगद के पीले पत्तों की राख को बराबर मात्रा में सरसों के तेल में मिलाकर लेप करते रहने से कुछ ही समय में बवासीर ठीक हो जाती है।
  18. मधुमेह : 20 ग्राम बरगद की छाल और इसकी जटा को बारीक पीसकर बनाये गये चूर्ण को आधा किलो पानी में पकायें, पकने पर अष्टमांश से भी कम बचे रहने पर इसे उतारकर ठंडा होने पर छानकर खाने से मधुमेह के रोग में लाभ होता है। लगभग 24 ग्राम बरगद के पेड़ की छाल लेकर जौकूट करें और उसे आधा लीटर पानी के साथ काढ़ा बना लें। जब चौथाई पानी शेष रह जाए तब उसे आग से उतारकर छाने और ठंडा होने पर पीयें। रोजाना 4-5 दिन तक सेवन से मधुमेह रोग कम हो जाता है। इसका प्रयोग सुबह-शाम करें।
  19. याददाश्त बढ़ाना : बरगद की छाल जो छाया में सुखाई गई हो उसके बारीक पाउडर में दुगनी चीनी या मिश्री मिला लें, इसे 6 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम खाने से याददाश्त शक्ति बढ़ती है। इस प्रयोग में खट्टे पदार्थों से परहेज रखें।
  20. खुजली : बरगद के आधा किलो पत्तों को पीसकर, 4 किलो पानी में रात के समय भिगोकर सुबह ही पका लें। एक किलो पानी बचने पर इसमें आधा किलो सरसों का तेल डालकर दोबारा पकायें, तेल बचने पर छानकर रख लें, इस तेल की मालिश करने से गीली और खुश्क दोनों प्रकार की खुजली दूर होती है।
  21. दांत मजबूत करना : बरगद की पेड़ की टहनी या इसकी शाखाओं से निकलने वाली जड़ की दातुन करने से दांत मजबूत होते हैं।
  22. दांत में कीड़े लगना : कीड़े लगे या सड़े हुए दांतों में बरगद का दूध लगाने से कीड़े तथा पीड़ा दूर हो जाती है।
  23. मुंह के छाले : 30 ग्राम वट की छाल को 1 लीटर पानी में उबालकर गरारे करने से मुंह के छाले खत्म हो जाते हैं।
  24. कान का दर्द : बरगद के पत्तों के दूध की थोड़ी-सी बूंदे कान में डालने से कान के कीड़े मर जाते हैं और कान का दर्द दूर हो जाता है।
  25. गिल्टी (ट्यूमर) : बरगद का दूध लगाने से गिल्टी बिल्कुल नष्ट हो जाती है।
  26. मूत्ररोग : बरगद के दो नये कोमल पत्तों के छोटे-छोटे टुकड़े करके 1 कप पानी में उबालें। पानी जब आधा कप बचा रह जाये, तो उसे उतारकर छान लें। इसमें थोड़ी-सी चीनी डालकर पी जायें। सात दिन तक यह करने से मूत्ररोग ठीक हो जाता है।
  27. गठिया रोग : गठिया के दर्द में बरगद के दूध में अलसी का तेल मिलाकर मालिश करने से लाभ मिलता है।
  28. फोड़े-फुंसियों के लिए : बरगद के पेड़ के दूध को फोड़े पर लगाने से फोड़ा पककर फूट जाता है। बरगद के नये पत्तों को आग के ऊपर से ही हल्का-सा गर्म करके उसके ऊपर थोड़ा-सा तेल लगाकर बांधने से फोड़े- फुंसियां ठीक हो जाती हैं।
  29. सिर का दर्द : बरगद के चूर्ण का लेप करने से शंखक नामक सिर का रोग ठीक हो जाता है।
  30. दमा : दमा के रोगी को बड़ के पत्ते जलाकर उसकी राख 240 मिलीग्राम पान में रखकर खाने से लाभ मिलता है।
  31. आंखों का जाला : बड़ का दूध आंख में लगाने से आंखों का जाला  कट जाता है।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch