Categories

सिर्फ़ 15 दिनों में दमा रोगियों को मिला है आराम इस अद्भुत काढ़े से, जानिए कैसे




  • सांस लेने में दिक्कत या कठिनाई महसूस होने को श्वास रोग कहते हैं। इस रोग की अवस्था में रोगी को सांस बाहर छोड़ते समय जोर लगाना पड़ता है। इस रोग में कभी-कभी श्वांस क्रिया चलते-चलते अचानक रुक जाती है जिसे श्वासावरोध या दम घुटना कहते हैं। श्वांस रोग और दमा रोग दोनों अलग-अलग होते हैं। फेफड़ों की नलियों की छोटी-छोटी तंतुओं (पेशियों) में जब अकड़नयुक्त संकोचन उत्पन्न होता है तो फेफड़ा सांस द्वारा लिए गए वायु (श्वास) को पूरी अन्दर पचा नहीं पाता है जिससे रोगी को पूरा श्वास खींचे बिना ही श्वास छोड़ने को मजबूर हो जाता है। इसी स्थिति को दमा या श्वास रोग कहते हैं।
  • आज के समय में दमा (अस्थमा) तेजी से स्त्री-पुरुष व बच्चों को अपना शिकार बना रहा है। यह रोग धुंआ, धूल, दूषित गैस आदि जब लोगों के शरीर में पहुंचती है तो यह शरीर के फेफड़ों को सबसे अधिक हानि पहुंचाती है। प्रदूषित वातावरण में अधिक रहने से श्वास रोग (अस्थमा) की उत्पत्ति होती है। अधिक दिनों से दूषित व बासी ठंड़े खाद्य पदार्थों का सेवन करने और प्रदूषित वातावरण में रहने से दमा (अस्थमा) रोग होता है। कुछ बच्चों में दमा रोग वंशानुगत भी होता है। माता-पिता में किसी एक को दमा (अस्थमा) होने पर उनकी संतान को भी (अस्थमा) रोग हो सकता है। वर्षा ऋतु और सर्दी के मौसम में दमा रोग अधिक होता है क्योंकि इस मौसम में वातावरण में अधिक नमी (आर्द्रता) होती है। ऐसे वातावरण में दमा (अस्थमा) के रोगी को श्वास लेने में अधिक कठिनाई होती है और रोगी को दमा के दौरे पड़ने की संभावना रहती है। दमा के दौरे पड़ने पर रोगी को घुटन होने लगती है और कभी-कभी दौरे के कारण बेहोश भी होकर गिर पड़ता है।

आवश्यक सामग्री :

  1. अपामार्ग या चिरचीटा या लटजिरा 1 किलो, 
  2. बेरी की छाल 1 किलो, 
  3. अरूस के पत्ते 1 किलो, 
  4. गुड़ 2 किलो, 
  5. जवाखार 50 ग्राम, 
  6. सज्जीखार लगभग 50 ग्राम
  7. नौसादर लगभग 125 ग्राम

काढ़ा बनाने की विधि :

  • अपामार्ग 1 किलो, बेरी की छाल 1 किलो, अरूस के पत्ते 1 किलो, गुड़ 2 किलो, जवाखार 50 ग्राम, सज्जीखार लगभग 50 ग्राम और नौसादर लगभग 125 ग्राम। इन सभी को पीसकर 1 लीटर पानी में पकाएं। जब यह पकते-पकते 5 किलो बच जाए तो इसे उतारकर डिब्बे में भरकर मुख बन्द करके 15 दिनों के लिए रख दें। 15 दिनों बाद इसे छानकर 7 से 10 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करने से श्वास और दमा रोग नष्ट हो जाता है।
  • चिरचिटा की जड़ को सुखाकर चूर्ण बना लें। यह चूर्ण लगभग आधा ग्राम की मात्रा में शहद के साथ खाने से श्वांस रोग दूर होता है। (ध्यान रखें कि चिरचिटा की जड़ को निकालते समय इसकी जड़ में लोहा न छूने पाए)।
  • लगभग आधा मिलीलीटर अपामार्ग का रस शहद में मिलाकर 4 चम्मच पानी के साथ भोजन के बाद सेवन करने से गले व फेफड़ों में जमा कफ निकल जाता है और दमा ठीक होता है।
  • अपामार्ग का रस लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग पान में रखकर खाने अथवा 1 ग्राम शहद में मिलाकर चाटने से छाती पर जमा कफ निकलकर श्वांस रोग नष्ट होता है।

आवश्यक सावधानियाँ :
  • दमा से बचने के लिए पेट को साफ रखना चाहिए। कब्ज नहीं होने देना चाहिए। ठंड से बचे रहे। देर से पचने वाली गरिष्ठ चीजों का सेवन न करें। शाम का भोजन सूर्यास्त से पहले, शीघ्र पचने वाला तथा कम मात्रा में लेना चाहिए। गर्म पानी पिएं। 
  • शुद्ध हवा में घूमने जाएं। धूम्रपान न करें क्योंकि इसके धुएं से दौरा पड़ सकता है। प्रदूषण से दूर रहे खासतौर से औद्योगिक धुंए से। धूल-धुंए की एलर्जी, सर्दी एवं वायरस से बचे। मनोविकार, तनाव, कीटनाशक दवाओं, रंग-रोगन और लकड़ी के बुरादे से बचे। 
  • मूंगफली, चाकलेट से परहेज करना चाहिए। फास्टफूड का सेवन नहीं करना चाहिए। अपने वजन को कम करें और नियमित रूप से योगाभ्यास एवं कसरत करना चाहिए। बिस्तर पर पूर्ण आराम एवं मुंह के द्वारा धीरे-धीरे सांस लेना चाहिए। नियमपूर्वक कुछ महीनों तक लगातार भोजन करने से दमा नष्ट हो जाता है।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch