Categories

This Website is protected by DMCA.com

अगर फूल गयी है आपकी आँखे तो इस्तेमाल करे ये रामबाण उपाय



इस रोग में रोगी को ऐसा महसूस होता है जैसे कि मानो आंखों के आगे छोटी-छोटी फिटिंगियां या छोटा सूत जैसा कुछ धूल कण उड़ रहा है।  पुराना बुखार, अधिक सेक्स क्रियाखून की कमी आदि कई कारणों से यह रोग होता है। यह रोग शरीर में अधिक कमजोरी आने के कारण से भी हो सकता है।
आँखों की दोनों पलकों के किनारों पर बालों (बरौनियों) की जड़ों में जो छोटी-छोटी फुंसियां निकलती हैं, उसे ही अंजनहारी, गुहेरी या नरसराय (eye style) भी कहा जाता है। कभी-कभी तो यह मवाद के रूप में बहकर निकल जाती है पर कभी-कभी बहुत ज़्यादा दर्द देती है और एक के बाद एक निकलती रहती हैं।  चिकित्सकों के मत मे विटामिन A और D की कमी से अंजनहारी निकलती है। कभी-कभी कब्ज से पीड़ित रहने कारण भी अंजनहारी निकल सकती हैं। 

गुहेरी या अंजनहारी (eye stye) होने के कारण :

  1. डॉक्टर अंजनहारी का कारण विटामिन A और D की कमी मानते हैं।
  2. अंजनहारी का कारण, आम तौर पर एक स्टाफीलोकोकस बैक्टीरिया (staphylococcus bacteria) के कारण होने वाला संक्रमण भी माना जाता है।
  3. पाचन क्रिया में खराबी भी अंजनहारी का कारण है।
  4. अंजनहारी का एक कारण, लगातार रहने वाली कब्ज भी मानी जाती है।
  5. धूल और धुंए समेत अन्य हानिकारक कणों का आँखों में जाना।
  6. बिना हाथ धोए आँखों को छूना।
  7. संक्रमण होना।
  8. आँखों की सफाई पर ध्यान न देना। निरंतर रूप से पानी से न धोना।
  9. वैसे अंजनहारी होने के सटीक कारणों की जानकारी नहीं है, लेकिन ये कुछ कारण हैं जिनकी वजह से यह दिक्क्त आती है।
आँखों के फूलने का उपचार :
1.मूली : मूली का पानी आंख का जाला व धुंध को दूर करने में सहायक है।
2. कांकड़ : कांकड़ के पेड़ की एक हाथ लम्बी पतली टहनी को मुंह में रखकर जोर से सांस छोड़ना चाहिए इस तरह करने से जो रस बाहर निकले, उसे 3 दिन तक आंख में डालना चाहिए।
3. कपूर : बड़ के दूध में कपूर को पीसकर लगाने से 2 महीने की फूली भी बैठ जाती है।
4. कटेरी : कटेरी की जड़ को नींबू के रस में घिसकर आंखों में लगाने से धुन्ध और जाला मिटता है।
5. नीम : नीम के सूखे फूल, कलमीशोरा को बारीक पीसकर कपड़े में छानकर आंखों में काजल के रूप में लगाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है तथा रतौंधी (शाम को दिखाई बंद होना) में कच्चे फल का दूध आंखों में लगा सकते हैं।
6. धनिया : हरी धनिया के पत्तों का रस निकालकर प्रतिदिन 3-4 बार आंखों में डालते रहने से उनकी गर्मी शांत हो जाती है तथा जलन, धुंध, लाली, दर्द आदि में फायदा होता है। 
7. अरण्डी का तेल : 30 मिलीलीटर अरण्डी के तेल में 25 बूंद कारबोलिक एसिड को मिलाकर सुबह-शाम दो-दो बूंद आंखों में डालें। इससे आंखों के फूला, जाला आदि में लाभ मिलता है।
8. हल्दी :
  • 5-5 ग्राम शुद्ध शोराकलमी और अम्बा हल्दी को पीसकर कपडे़ में छानकर आंखों में 7 दिनों तक लगातार सलाई से लगाएं।
  • हल्दी के एक टुकड़े को नींबू में सुराख करके अंदर रख दें। नींबू को धागे से बांधकर लटका दें। नींबू जब सूख जाये तो उसमें से हल्दी को निकालकर और पीसकर पानी में मिलाकर आंखों में सुबह-शाम लगाने से आंख के जाले में रोगी को लाभ होगा।

8. आलू : कच्चे आलू को पत्थर पर पीसकर उसका रस निकाल लें। इस रस को सुबह-शाम काजल की तरह आंखों में लगाने से 5-6 साल पुराना जाला और 4 साल तक का फूला 3 महीने में साफ हो जाता है।

गुहेरी या अंजनहारी (eye style) के अन्य सरल घरेलू उपाय :
  1. लौंग को जल के साथ किसी सिल पर घिसकर अंजनहारी पर दिन में दो तीन लेप करने से शीघ्र ही अंजनहारी नष्ट हो जाती है।
  2. बोर के ताजे कोमल पत्तों को कूट पीसकर, किसी कपड़े में बांधकर रस निकालें। इस रस को अंजनहारी पर लगाने से शीघ्र लाभ होता है।
  3. इमली के बीजों को सिल पर घिसकर उनका छिलका अलग कर दें। अब इमली के सफेद बीज को जल के साथ सिल पर घिस कर दिन में कई बार अंजनहारी (फुसी) पर लगाएं । इसके लगाने से अंजनहारी शीघ्र नष्ट होता है।
  4. १० ग्राम त्रिफला के चूर्ण को ३०० ग्राम जल में डालकर रखें। सुबह बिस्तर से उठने पर त्रिफला के उस जल को कपड़े से छानकर नेत्रों को साफ करने से गुहेरी की विकृति नष्ट होती है। त्रिफला के जल से नेत्रों की सब गंदगी निकल जाती है। प्रतिदिन त्रिफला का ३ ग्राम चूर्ण जल के साथ सुबह शाम सेवन करने से गुहरी की विकृति से राहत मिलती है।
  5. काली मिर्च को जल के साथ पीसकर या जल के साथ घिसकर अंजनहारी पर लेप करने से प्रारंभ में थोड़ी सी जलन होती है, लेकिन जल्दी ही गुहेरी का निवारण हो जाता है।
  6. ग्रीष्म ऋतु में पसीने के कारण अंजनहारी की विकृति बहुत होती है। प्रतिदिन सुबह और रात्रि को नेत्रों में गुलाब जल की कुछ बूंदे डालने से बहुत लाभ होता है। www.allayurvedic.org
  7. त्रिफला चूर्ण ३ ग्राम मात्रा में उबले हुए दूध के साथ सेवन करने से अंजनहारी से सुरक्षा होती है।
  8. लौंग को चंदन और केशर के साथ जल के छींटे डालकर, घिसकर अंजनहारी का लेप करने से बहुत जल्दी लाभ होता है।
  9. सहजन के ताजे व कोमल पत्तों को कूट पीसकर कपड़े में बांधकर रस निकालें। इस रस को दिन में कई बार अंजनहारी पर लगाने से शीघ्र लाभ होता है।
  10. नीम के ताजे व कोमल पत्तों का रस मकोय का रस बराबर मात्रा में कपड़े से छानकर नेत्रों में लगाने से अंजनहारी के कारण शोथ व नेत्रों की लालिमा शीघ्र नष्ट होती है।
  11. अंजनहारी में शोथ के कारण तीव्र जलन व पीड़ा हो तो चंदन के जल के साथ घिसकर दिन में कई बार लेप करने से तुरंत लाभ होता है।
  12. छुहारे के बीज को पानी के साथ घिस लें। इसे दिन में २-३ बार अंजनहारी पर लगाने से लाभ होता है।
  13. तुलसी के रस में लौंग घिस लें। अंजनहारी पर यह लेप लगाने से आराम मिलता है।
  14. हरड़ को पानी में घिसकर अंजनहारी पर लेप करने से लाभ होता है।
  15. आम के पत्तों को डाली से तोड़ने पर जो रस निकलता है, उस रस को गुहेरी पर लगाने से गुहेरी जल्दी समाप्त हो जाती है।




विनम्र अपील : प्रिय दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो या आप आयुर्वेद को इन्टरनेट पर पोपुलर बनाना चाहते हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता है आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch