Categories

This Website is protected by DMCA.com

इसे लगाने से बाल कभी सफ़ेद नही होंगे, ये बालों को इतना घना बना देगा की कंगा भी आसानी से नही कर पाओगे, जिन्होंने आज़माया उन्होंने इसको लगाना छोड़ा नही


नमस्कार दोस्तों एकबार फिर से आपका All Ayurvedic में स्वागत है आज हम आपको बालों की तमाम समस्या से छुटकारा पाने वाला चमत्कारी उपाय बताएँगे। काले, सुंदर और चमकदार बाल नारी की सुंदरता में चार चाँद लगा देते है। पुराने समय में बालों रखाव और निखार के लिए नारिया अनेक तरीके इस्तेमाल मई लाती थी, जिनसे वास्तव मई ही हेर काले, घने, मजबूत और चमकदार बनते थे। उन उपायों  से आपके बालों की समस्या काफ़ी हद तक समाप्त हो जाएगी। उन उपायों
  • लोंग हेयर के लिए सिर्फ़ अच्छे उत्पादो का इस्तेमाल ही ज़रूरी नही है बल्कि हेर की सही देखरेख भी बहुत ज़रूरी है. कई बार महेंगे उत्पादो से हेर पोशाक तटवा हासिल करने के इस्तान पर समय से पूर्व टूट कर गिरने लगते है, साथ ही सफेद (वाइट) होने लगते है।
  • इसके साथ ही उपयुक्त आहार का सेवन ना किया जाए तो भी बालो की ग्रोथ रुक जाती है. घरेलू नुस्खे इन हिन्दी फॉर लोंग हेर से आप इन्न सभी समस्याऊ से छुटकारा पा सकते है जो की आपके लिए बहुत फयदेमंद होगा और फिर आप सुंदर दिखेगे।
इस घरेलू नुस्खे में बाल के लिए आयिल मसाज अत्यंत फयदेमंद  है। लोंग हेयर करने के लिए समय समय पर तेल की मसाज करे. साप्ताह में कम से कम हेयर को तेल ही नही लगाना है बल्कि अच्छे से मालिश भी करनी है, ताकि तेल जड़ो तक जा सके. इससे आपके हेयर को भरपूर पोषण मिलेगा और बाल भी लंबे होंगे।

बालों की समस्या के 10 मुख्य कारण इस प्रकार हैं
1. शरीर में विटामिन की कमी के आ जाने से बाल गिरने लगते हैं।
2. प्रतिदिन कास्मेटिक शैंपू से बाल धोना या साबुन से बाल धोना।
3. बालों को कलर या डाई करना।
4. हैलमेट को ज्यादा समय तक सिर पर रखना।
5. दिमाग में बेवजह की टेशन लेना।
6. बालों को झटके से खीचना या ज्यादा कस कर बालों को बांधना।
7. सिर में सफेद दाग की वजह से भी बाल गिरने लगते हैं।
8. अनुवांशिक कारण और मानसिक तनाव का होना।
9. खुशबूदार तेलों का अधिक इस्तमाल करना।
10. रक्त विकार, दाद, एग्जिमा आदि कारणों से भी बालों की समस्या होती है।

    आवश्यक सामग्री :

    1. ब्राह्मी पाउडर-25 ग्राम 
    2. आंवला पाउडर-25 ग्राम 
    3. भृंगराज पाउडर-25 ग्राम
    4. जटामांसी पाउडर-25 ग्राम
    5. मेथी दाने का पेस्ट
    6. प्याज का रस- 2 या 3 चम्मच 
    7. मेहंदी पेस्ट
    8. कड़ी पत्ते का पेस्ट
    9. नागरमोथा पाउडर- -25 ग्राम

    बनाने की विधि और प्रयोग करने का तरिका  :

    • एक लोहे का बर्तन या कढ़ाई ले। 
    • इसमें ब्राह्मी पाउडर, आंवला पाउडर, भृंगराज पाउडर, जटामांसी पाउडर, मेथी दाने का पेस्ट, प्याज का रस, मेहंदी पेस्ट, कड़ी पत्ते का पेस्ट, नागरमोथा पाउडर डाले और इसमें पानी डाल कर दो दिन तक भीगने के लिए रखे। 
    • अब इस मिश्रण में नारियल तेल, थोड़ा अरंडी का तेल और तिल का तेल डाल कर हल्की आंच पर तब तक पकाये जब तक पानी ना उड़ जाये। 
    • अब इस मिश्रण को छान ले और किसी डिब्बे या बोतल में भर ले। हर रोज रात को सोने से पहले इस आयल को गुनगुना करके सिर पर मालिश करे। इसे लगाने से बाल सफ़ेद नही होंगे, ये बालों को इतना घना बना देगा, बालों की तमाम समस्या में ये बहुत कारगर सिद्ध होता है।
    बालों की समस्या से बचाने वाले तेल को बनाने की विधि 
    कनेर के 60-70 ग्राम पत्ते (लाल या पीली दोनों में से कोई भी या दोनों ही एक साथ ) ले के उन्हें पहले अच्छे से सूखे कपडे से साफ़ कर लें ताकि उनपे जो मिट्टी है वो निकल जाये। अब एक लीटर सरसों का तेल या नारियल का तेल या जेतून का तेल ले के उसमे पत्ते काट काट के डाल दें। अब तेल को गरम करने के लिए रख दें। जब सारे पत्ते जल कर काले पड़ जाएँ तो उन्हें निकाल कर फेंक दें और तेल को ठण्डा कर के छान लें और किसी बोटल में भर के रख लें। 

    प्रयोग करने का तरीका
    रोज़ जहाँ जहाँ पर भी बाल नहीं हैं वहां वहां थोडा सा तेल ले के बस 2 मिनट मालिश करनी है और बस फिर भूल जाएँ अगले दिन तक. ये आप रात को सोते हुए भी लगा सकते हैं और दिन में काम पे जाने से पहले भी। 

    परिणाम
    बस एक महीने में आपको असर दिखना शुरू हो जायेगा। सिर्फ 10 दिन के अन्दर अन्दर बाल झड़ने बंद हो जायेंगे या बहुत ही कम और नए बाल भी एक महीने तक आने शुरू हो जायेंगे।
    ये उपाय पूरी तरह से टेस्टेड है। हमने कम से कम भी 10 लोगो पे इसका सफल परीक्षण किया है। एक औरत के 14 साल से बाल झड़ने बंद नहीं हो रहे थे। इस तेल से मात्र 6 दिन में बाल झड़ने बंद हो गये। 65 साल तक के आदमियों के बाल आते देखे हैं। आप भी लाभ उठायें और अगर किसी को फरक पड़े तो जरुर बताये। एक बात और आयुर्वेद में सबके वात, पित्त और कफ अलग-अलग माने है जो की होते भी है या शरीर की प्रकृति अलग-अलग होती है।इसलिए किसके लिए कौन सा उपाय रामबाण बन जाए कह नही सकते है।

    कृपया ध्यान दे
    पीले पत्ते वही ले जो पेड़ पर पक कर पीले हो जाये, पीले होने के बाद वो थोड़ा लाल भी हो जाते है, वो भी ले सकते है।
    loading...
    Thank you for visit our website

    टिप्पणि Facebook

    टिप्पण Google+

    टिप्पणियाँ DISQUS

    MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch