Categories

शरीर के सब दोषों को दूर कर तंदरूस्ती का नया एहसास कराने वाला बहुत ही उत्तम औषधियों का योग जो आपको जवाँ बना देगा



जीवन अनमोल योग (स्वर्ण युक्त) :
  • शरीर के सब दोषों को दूर कर तंदरूस्ती का नया एहसास कराने वाला, शरीर के सब दोषों को दूर करने वाला बहुत ही उत्तम योग। आजकल की भागदौड़ वाली जिन्दगी में हर तरफ तनाव ही तनाव है। मर्द व औरत का एक ऐसा रिश्ता है, जिसमें कि यह दोनों ही पक्ष एक दूसरे के सुख- दुख के साथी हैं। हर औरत चाहती है कि उसका मर्द उसकी हर एक जरूरत को समझे व पूरी करे। हर एक मर्द भी यही चाहता है कि उसकी औरत उसके हर दुख- दर्द को समझे व हर खुशी व गम में उसका साथ दे। लेेकिन आजकल उनकी जिंदगी में तनाव, पौष्टिक आहारों की कमी, प्रदूषित खानपान व वातावरण की वजह से सबकुछ बेरंग व फीका लगने लग जाता है। इसी वजह से जब शारीरिक व मानसिक तौर पर इन्सान थका हारा घर आता है तो उसे जिन्दगी का हर स्वाद फीखा लगने लगता है, वह अपने  जीवनसाथी से खुलकर बातचीत नहीं करता। यही वजह है कि आजकल परिवार बिखर रहे हैं, कलह बढ़ रही है और तलाक तक की नौबतें आ रही हैं। इन्हीं सब समस्याओं को देखते हुए हमने बनायी है यह अनमोल औषधि।
  • जिसमें अभ्रक भस्म, शिलाजित व स्वर्ण भस्म जैसी अनमोल द्रव्यों का मिश्रण आपके दिल- दिमाग को तरोताजा रखेगा। इसके सेवन से आपके हर अंग में नया जोश व जीवन के प्रति नई उमंग पैदा होगी। असली स्वर्ण भस्म व अभ्रक भस्म शतपुटी जैसी जीवन दायिनी दवाईयाँ वाकई में आपका शारीरिक व मानसिक संतुलन बनाये रखेंगी। साल दो साल  में एक बार ऐसी अनमोल योग का सेवन हमें एक बार जरूर कर लेना चाहिये। इसीलिये बड़े बुजुर्ग हमेशा कहते है, कि "एक तंदरूसती हजार नेमत" होती है। क्योंकि अगर हम मानसिक व शारीरिक रूप से कमजोर होते हैं तो कोई भी सामाजिक काम पूर्णयता से नहीं कर पाते हैं।
आवश्यक सामग्री :
1. शिलाजीत 20 ग्राम।
2. अभ्रक भस्म शतपुटी 12 ग्राम।
3. वंग भस्म 12 ग्राम।
4. स्वर्ण भस्म 260 मिलीग्राम।
5. तालमखाना 8 ग्राम।
6. कुचला शुध्द 4 ग्राम।
7. कौंच बीज दूध में स्वेदन करके छिल्का उतारे हुए 24 ग्राम।
8. अतिबला 8 ग्राम।
9. कपूर 1-1/2 ग्राम। (डेढ़ ग्राम)
बनाने की विधि :
  • सबसे पहले कपूर को 6 घंटे खरल करलें, फिर इसमें स्वर्ण को छोड़ सब भस्में मिलालें। दूसरी काष्ठ औषधियाँ अलग से पीसलें व फिर सबको मिलाकर अंत में स्वर्ण भस्म मिलादें। फिर अश्वगंधा, सेमल मूसली, व शतावर के ताजे रस की सात- सात भावना देकर 500- 500 मिलीग्राम पुड़िया बनाकर रख लें। बस आपका कीमती योग तैयार है।
सेवन का तरिका :
  • 1-1 पुड़िया सवेरे शाम हल्के गर्म दूध से लेवें। आप देखेंगे कि आपकी जिंदगी में नई उमंग आ जायेगी। यह औषधि शूगर या मधुमेह के कारण से आई कमजोरी में भी गजब के परिणाम देती है।
  • विशेष : जो भाई खुद नहीं बना सकते वह बना- बनाया हमसे मंगवा सकते हैं। बिना वजह परेशान करने वाले कृप्या करके मैसेज न करें। हम सब दवाईयाँ सौ प्रतिशत ओरिजनल ही बनाते हैं,  इस योग का नाम "जीवन अनमोल योग" रखा गया है, इसी नाम से मंगवायें।
  • आप इस विशेष योग को चाहते है तो अपना पता पिन कोड के साथ हमे इस नंबर पर Whatsapp और Call कर सकते है। Dr. Ajaz Khan (Whatsapp & Call) 09303430077 Time - 10 AM to 6 PM
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch