Categories

सोने का सही तरिका जान लीजिए वरना रोगों का घर बनकर रह जाएगा आपका शरीर, जानिए वैज्ञानिक कारण के साथ

  • सेहत के लिए खाना-पीना जितना जरूरी है उतना ही जरुरी सोना भी है। अच्छी नींद लेने से दिमाग शांत रहता है और पूरा शरीर उर्जा से परिपक्व रहता है, जिसकी वजह से अपने रोजमर्रा के काम सही तरीके से कर पाते हैं. वैज्ञानिकों द्वारा किये गये एक शोध में पाया कि जो लोग अच्छे नींद लेते हैं वे लोग कम और ख़राब नींद लेने वालों की तुलना में ज्यादा स्वस्थ होते हैं।
  • ऐसे में स्वस्थ रहने के लिए बेहतर नींद अत्यधिक जरुरी है। कई बार गलत पोजीशन में सोने की वजह से बार-बार नींद खुलना या ख़राब नींद होने की समस्या होती है। सोने की भी एक विशेष नियम होती है, अगर नियमानुसार सोया जाये तो नींद बढ़िया होती है। सोने का सही तरिका ही अपनाएँ वरना आपके सोने की ग़लत आदत बीमारियों को न्योता दे सकती है। आइये जानते हैं सोने के सही तरीके के बारे में...
किस करवट और क्यों सोए ये है वैज्ञानिक कारण 
1. बायाँ तरफ सोएं :
  • बाएं तरफ पाचन तंत्र से सम्बन्धी महत्वपूर्ण अंग स्थित होते हैं और साथ ही साथ ह्रदय भी बायाँ तरफ होता है. बायाँ तरफ करके सोने से ह्रदय को प्राकृतिक सुरक्षा मिलती है, इसके अलावा खाया हुआ भोजन सही ढंग से पचता है. वैज्ञानिकों ने साबित कर दिया है कि बाएं तरफ सोने से दायें करके सोने की तुलना में ज्यादा फायदेमंद है। बाएं तरफ सोने से रक्त संचार ठीक रहता है जबकि दायाँ सोने से शरीर में रक्त प्रवाह के लिए ह्रदय ज्यादा पम्पिंग नहीं कर पाता है और बाकि हिस्सों में रक्त संचार के लिए उसे अधिक जोर लगाना पड़ता है, जो कि ह्रदय के लिए उचित नहीं है।
2. घुटने मोड़कर न सोएं :
  • एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर के 40 प्रतिशत लोग घुटने मोड़े हुए पोजीशन में सोते हैं. इस पोजीशन में सोने से घुटने के जॉइंट पर बुरा प्रभाव पड़ता है और उसमें दर्द तथा थकान की समस्या होने लगती है. अगर घुटने मोड़कर सोना ही है तो दोनों घुटनों के बीच तकिया रख दें. अगर स्वस्थ और अच्छी नींद लेना है तो इस पोजीशन न सोएं वही बेहतर है, इसके जगह पैर सीधा करके सो सकते हैं।
इस तरह All Ayurvedic द्वारा बताये गये सोने के इन सही तरीकों को अपनाएं और अच्छी नींद लें।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch