Categories

सुबह से लेकर शाम तक रूप चौदस को ये छः काम करे, रूप के साथ-साथ बढ़ाएंगे सेहत भी



नरक चतुदर्शी को रूप चौदस भी कहा जाता है। कहते हैं कि इस दिन यम पूजा की जाती है और दरिद्रता दूर करने के यत्न किए जाते हैं। दीपावली से एक दिन पहले आने के कारण इस दिन पूरे घर आंगन की सफाई के साथ साथ घर परिवार के सदस्यों के रूप और सेहत की प्रार्थना की जाती है।
ऐसा माना जाता है कि रूप चौदस के दिन महिलाये सुर्योदय से पहले उठकर ठंडे पानी से नहाती है, साथ ही चेहरे पर उबटन को लगाने की पंरम्परा बताई जाती है. ये परम्परा कई वर्षो से चली आ रही है. इसलिए हम आपको बातयेंगे कि आप इस रूप चौदस को किस तरह का उबटन लगाकर चेहरे को कैसे चमका सकते है।
रूप चौदस पर किए गए छोटे छोटे उपाय औऱ प्रयत्न न केवल आपके घर से गंदगी को दूर करेंगे बल्कि घर परिवार के लोगों को दीर्घायु और सेहतमंद बनाएंगे और इससे घर के लोग भी रूपवान बने रहेंगे।

रूप चौदस को ये छः काम करे
  1. सूर्योदय से पहले स्नान : ब्रह्म पुराण में कहा गया है कि जो व्यक्ति नरक चतुदर्शी के दिन सूर्य निकलने से पहले अच्छी तरह स्न्नान करता है वो जीवन भर रोगों से दूर रहता है।
  2. घर का दरिद्र करें साफ : कहते हैं कि दीपावली की रात लक्ष्मी भूलोक पर घूमती है और जिस घर में सफाई देखती हैं, वहां रुक जाती हैं। इससे एक दिन पहले यानी नरक चतुदर्शी को लक्ष्मी की बहन दरिद्रा भूलोक पर घूमती हैं और जिस घर में गंदगी औऱ नरक देखती हैं, वहीं डेरा डाल लेती है। इसलिए आप नरक चतुदर्शी के दिन घर आंगन को पूरी तरह साफ कर लें कि कहीं भी किसी भी कौने में गंदगी न रह जाए।
  3. तिल्ली के तेल की मालिश : नरक चतुदर्शी के दिन घर का हर सदस्य स्नान से पहले तिल्ली के तेल को थोड़े से पानी में मिलाकर बदन पर मालिश करे। दरअसल कहा जाता है कि तिल्ली के तेल में लक्ष्मी और जल में गंगा का निवास होता है। तेल की मालिश से घर के सदस्य धनवान होने के साथ साथ रूपवान भी होते हैं।
  4. हल्दी कुमकुम का उपाय : सुबह सवेरे स्नान से पहले नहाने के पानी में चुटकी भर हल्दी औऱ कुमकुम डालकर वरुण देवता का ध्यान करें औऱ फिर स्नान करें। ऐसा करने से घर के सदस्यों की उम्र लंबी होने की संभावना बढ़ती है।
  5. पति पत्नी मंदिर जाएं : कहा जाता है कि नरक चतुदर्शी के दिन पति पत्नी दोनों एक साथ मंदिर जाकर भगवान विष्णु और भगवान कृष्ण के एक साथ दर्शन करें तो समस्त पाप कटते हैं और होने वाली संतान रूपवान पैदा होती है।
  6. हल्दी का उबटन : कहते हैं कि नरक चतुदर्शी के दिन हल्दी और चंदन का उबटन लगाने से रूप और सौंदर्य बढ़ता है औऱ व्यक्ति के आकर्षण में वृद्धि होती है।
उबटन के लिए आवश्यक सामग्री
  1. बेसन - 2 चम्म्च, 
  2. हल्दी - 2 चम्म्च, 
  3. चन्दन पाउडर - 1 चम्म्च, 
  4. मसूर दाल का पाउडर - 1 चम्म्च, 
  5. दूध या गुलाबजल - 2 चम्म्च, 
  6. आधे नींबू का रस। अब उबटन को इस तरह तैयार करें।
बनाने की विधि 
  • सबसे पहले सभी चीजों को एक कटोरी में मिक्स करें और दूध या गुलाबजल डालकर पेस्ट बना लें, ध्यान रहे की पेस्ट थोड़ा गाढ़ा होना चाहिए. अगर आपकी स्किन काफी ड्राई है तो आप इसमें फ्रेश मलाई भी डाल सकते हैं. अब इस तैयार किये हुए उबटन को चेहरे व गर्दन पर लगाकर 10 से 15 मिनट तक सूखने दे। जब ये मास्क पूरी तरह से सूख जाये तो अपने हाथों में दूध या पानी लेकर चेहरे को हल्के हाथों से स्क्रब करें, फिर अच्छे तरीके से स्क्रब करके चेहरे को साफ पानी से धोले।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch