Categories

फोड़े-फुंसी होने के कारण व इसके रामबाण घरेलू उपाय


फोड़ा या फुंसी एक बहुत ही गहरा संक्रमण कूपशोथ (बाल के कूप का संक्रमण) है, यह लगभग हमेशा स्टैफिलोकोकस और यूस नामक जीवाणु के कारण होता है जिससे चमड़ी के ऊपर पूस और मरी हुई कोष से दर्दनाक सूजन होने लगती है। कई अलग-अलग फोड़े जब एक साथ जमा हो जाते हैं, तो उसे नासूर कहा जाता है।

कारण

आमतौर पर, यह त्वचा में मौजूद जीवाणु जैसे स्टैफीलोकोसी के कारण होता है। जीवाणु संबंधी उपनिवेशण बाल के रोम से शुरू होता है और इसके कारण सामान्य कोशिका प्रवाह तथा सूजन होने लगता है। इसके अलावा, अफ्रीका में तुम्बु मक्खी के कारण फैलने वाले रोग से मियासिस हो सकता है, जो सामान्य तौर पर त्वचीय फुंसी के साथ होते है। फुंसी रोग के लिए जोखिम कारको में नासिका के अन्दर जीवाणु का जमा होना, मधुमेह, मोटापा, लिम्फोप्रोलाइफलेटिव, केंसर, कुपोषण और रोग प्रतिकारक शक्ति को दबाने वाली दवाइयां आदि शामिल हैं।

उपचार

1. कालीमिर्च:

  • कालीमिर्च को सिल पर पीसकर फोड़े पर लगाने से फोड़ा बैठ जाता है।
  • 7 दाने कालीमिर्च के और 10 ग्राम ब्रह्मदण्डी को पानी में पीसकर और छानकर सुबह-शाम पीने से फोड़े के अलावा खुजली और दाद जैसे त्वचा के रोग भी ठीक हो जाते हैं।


2. चित्रक (चीता मूल): फोड़ा पकने के बाद चित्रक मूल को पीसकर लगाने से फोड़ा अपने आप फूट जाता है।

3. सोआ (बनसौंफ): सोआ (बनसौंफ) के पत्तों को तेल लगाकर गर्म करके फोड़े पर बांधने से फोड़ा जल्दी पककर फूट जाता है।

4. मैनफल: मैनफल के पेड़ की छाल का चूर्ण बनाकर फोड़े पर लगाने से फोड़े के कारण होने वाला दर्द खत्म हो जाता है।

5. पुष्कर जड़: पुष्कर जड़ को पीसकर फोड़े, फुंसी और जख्मों पर लगाने से लाभ होता है।

6. पाषाणभेद (सिलफड़ा): शहद में पाषाणभेद या सिलफड़ा को घिसकर फोड़े पर लगाने से आराम होता है।

7. कपूर: कपूर और रसौत को मक्खन में मिलाकर फोड़े के घाव पर लगाने से घाव ठीक हो जाता है।

8. चकबड़ : चकबड़ के पत्तों को पोटली बनाकर फोड़ों पर बांधने से फोड़े पककर जल्दी फूट जाते हैं।

9. प्याज:

  • प्याज को पीसकर घी में भूनकर फोड़े या घाव पर पोटली की भान्ति बांधने से इसमें बहुत लाभ मिलता है।
  • प्याज को गर्म राख में भूनकर और इसको कुचलकर गुड़ के साथ मिलाकर फोड़े पर बांधने से फोड़ा पक जाता है।


10. यवक्षार: यवाक्षार और सज्जीखार को पानी में मिलाकर फोड़े पर लगाने से फोड़ा जल्दी फूट जाता है।

11. कस्तूरी: जबादकस्तूरी को घाव पर लेप की तरह लगाने से फोड़ा जल्दी ठीक हो जाता है।


12. अगर: पानी में अगर को घिसकर फोड़े पर लगाने से फोड़ा ठीक हो जाता है।

विनम्र अपील : प्रिय दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो या आप आयुर्वेद को इन्टरनेट पर पोपुलर बनाना चाहते हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता है आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा।
loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch