Categories

यदि आप निमोनिया से है परेशान तो ये 6 घरेलू उपाय किसी चमत्कार से कम


निमोनिया एक संक्रमण है जो कि फेफड़ों को प्रभावित करता है। फिर भी, बच्चे और बड़ी उम्र के लोग इसे ज्यादा प्रभावित होते हैं क्यों कि उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता युवाओं की तुलना में कम होती है। जब भी उनमें यह संक्रमण होता है उन्हें कमजोरी महसूस होती है और उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करना जरूरी हो जाता है।

निमोनिया होने के कारण:

        बरसात में भीगने, सर्दी लगने, धूल कण व कुहासे भरे वातावरण आदि में रहने के कारण तीव्र श्वसनी शोथ होता है। यह रोग अधिकतर सर्दियों के मौसम में होता है।

निमोनिया होने के लक्षण :


  • तीव्र श्वसनी शोथ के साथ पहले खांसी होती है और फिर सफेद गाढ़ा बलगम निकलता है। पहले खांसी के साथ थोड़ा बलगम आता है। कुछ दिनों बाद बलगम का रंग पीला हो जाता है। 
  • बलगम में कभी-कभी खून के छींटे भी दिखाई देते हैं। स्टरनम के पीछे खरोंचता हुआ दर्द होता है जो खांसने से और भी बढ़ जाता है। इस रोग में हल्का बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द और भूख का नहीं लगना आदि रोग उत्पन्न होते हैं
  • तीव्र श्वसनी शोथ बार-बार होने पर पुराना श्वसनी शोथ होने की सम्भावना रहती है। ब्रोंकोन्यूमोनिया और न्यूमोनिया इसके अन्य गम्भीर लक्षण होते हैं जो बूढ़ों व बच्चों में अधिक होते हैं।

विभिन्न औषधियों से उपचार :

1. भाप : पानी को उबालकर भाप लेने से बलगम पतला होकर बाहर निकल जाता है। इससे तीव्र श्वसनी शोथ ठीक होता है।

2. ब्लैक टी और मेथी का मिश्रण:
दो टी स्पून मेथी पाउडर में एक कप ब्लैक टी मिलाएँ। यदि आवश्यक हो तो चीनी भी मिलाएँ और दिन में एक बार पियें। इससे निमोनिया दूर होगा।

3. तुलसी की पत्तियों का रस
तुलसी की कुछ पत्तियाँ लें, इन्हें मसलकर इनका रस निकाल लें। इसमें थोड़ी काली मिर्च मिलाएँ और 6 घंटे में एक बार पियें। यह भी निमोनिया में कारगर है।

4. पुदीने की पत्तियाँ
पुदीने की कुछ पत्तियाँ लें, इन्हें मसलकर रस निकाल लें। इसमें एक टेबल स्पून शहद मिला लें और दो-तीन घंटों के अंतराल से लें।

5. त्रिफला और अश्वगंधा
खाने में त्रिफला और अश्वगंधा के साथ थोड़ी अदरक और इलायची मिलाने से भी निमोनिया का इलाज होता है।

6. लहसुन का पेस्ट
लहसुन से शरीर का तापमान कम होता है और यह निमोनिया में प्रभावी है। लहसुन की कुछ पोथियां लें और मसलकर इनका पेस्ट बना लें। इसे छाती पर मसलें।


विनम्र अपील : प्रिय दोस्तों यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो या आप आयुर्वेद को इन्टरनेट पर पोपुलर बनाना चाहते हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता है आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा।
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch