Categories

This Website is protected by DMCA.com

जाने इन सब्जियों के छिलकों का राज़ फिर आप छिलके फेकना भूल जायेगे



सभी फल और सब्जियां कई तरह के गुणों से भरपूर होते हैं। शरीर के लिए आवश्यक लगभग हर तरह के पोषक तत्व हमें इनसे मिलते हैं। इसलिए डॉक्टर सेहत बनाने के लिए अधिक मात्रा में इनका सेवन करने को कहते हैं, लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि सिर्फ फलों और सब्जियों में ही नहीं, बल्कि उनके छिलके भी गुणों से युक्त होते हैं। इन छिलकों का उपयोग करने से कई रोग भी दूर होते हैं। यदि आप भी फलों और सब्जियों के इन गुणों से अनजान हैं, तो आइए जानते हैं आज छिलकों के कुछ ऐसे गुणों के बारे में।
  • नींबू का छिलका जूते पर रगड़ें व कुछ देर के लिए धूप में रख दें। जूतों में चमक आ जाएगी।
  • नींबू व संतरे के छिलकों को सुखा कर, खूब महीन चूर्ण बनाकर दांत पर घिसें। दांत चमकदार बन जाएंगे
  • नींबू का छिलका दांत पर मलने से दांत चमकदार बनते हैं।
  • आलू के छिलके को चेहरे पर रगड़ने से चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़तीं।
  •  खरबूजे को छिलके सहित खाने से कब्ज दूर होती है।
  • यदि आप अलमारियों में कीड़ों से परेशान हैं, तो वहां करेले का छिलका रख सकते हैं।
  • जिन महिलाओं को मासिक धर्म के समय अधिक ब्लीडिंग की समस्या होती है, उनके लिए अनार का छिलका एक बेहतरीन दवा है। अनार के छिलके को सुखाकर पीसकर पाउडर बनाकर रख लें। इस पाउडर को एक चम्मच मात्रा में पानी के साथ लें।  www.allayurvedic.org
  •  बादाम के छिलके व बबूल की फलियों के छिलके और बीजों को जलाकर पीस लें। इस मिश्रण में थोड़ा नमक डालकर मंजन करें। इससे दांतों का दर्द दूर होता है।
  • अनार के छिलकों के दो चम्मच पाउडर में दोगुनी मात्रा में गुड़ मिलाकर गोलियां बना लें। कुछ दिन तक लें। बवासीर में जल्दी आराम मिलेगा। 
  •  अनार के छिलके को मुंह में रखकर चूसने से खांसी खत्म हो जाती है।
  • अनार के छिलके को बारीक पीसकर उसमें दही मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बनाकर बालों पर मलें। इससे बाल मुलायम होते हैं।
  • लौकी के छिलके को बारीक पीसकर पानी के साथ पीने से दस्त में लाभ होता है।
  • पपीते के छिलके को सौंदर्य बढ़ाने वाला माना जाता है। त्वचा पर लगाने से खुश्की दूर होती है। एड़ियों पर लगाने से वे मुलायम होती हैं।
  • केले के छिलकों को हल्के हाथों से चेहरे पर पांच मिनट तक घिसने से पिंपल्स दूर हो जाते हैं। इसके छिलके का पेस्ट बनाकर लगाने से चेहरा ग्लो करने लगता है।
  • केले का छिलका दांतों पर रगड़ने से दांत चमकने लगते हैं।
  • जब कोई कीड़ा काट ले तो उस स्थान पर केले के छिलके को पीसकर लगाने से आराम मिलता है।
  • सोराइसिस होने पर केले के छिलकों को पीसकर लगाएं। इससे दाग भी चले जाते हैं और आराम मिलता है।
  • आंखों में थकान महसूस हो तो केले के छिलके को थोड़ी देर आंखों पर रख लें, राहत मिलेगी।
  • लेदर बैग, बेल्ट या शू डल दिखने लगे हों तो उन पर केले का छिलका रगड़ने से चमक आ जाती है। 
  •  यदि आप झुर्रियों से परेशान हैं तो अंडे की जर्दी में केले के छिलके को मिलाकर चेहरे पर लगाएं। इससे झुर्रियां खत्म हो जाती हैं। इस पेस्ट को चेहरे पर पांच मिनट के लिए लगाएं। फिर चेहरा धो लें।
  • यदि शरीर में कहीं भी दर्द हो तो केले का छिलका उस स्थान पर लगाकर 30 मिनट के लिए छोड़ दें, दर्द से राहत मिलेगी।  www.allayurvedic.org
  • मस्सों पर नियमित रूप से छिलका घिसने से मस्से झड़ जाते हैं।
  • संतरे के छिलके में क्लींजिंग, एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो पिंपल और एक्ने को ठीक कर देते हैं। संतरे के छिलके को सुखाकर पीसकर उसमें दही मिलाकर स्किन पर लगाने से स्किन ग्लोइंग व स्मूद बनती है।
  • संतरे के छिलकों को बेसन में मिलाकर लगाना तैलीय त्वचा वालों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होता है। यह पिंपल्स को खत्म कर देता है।
  • इसके छिलके में पाचन शक्ति बढ़ाने की क्षमता होती है। यह पाचन में सुधार, गैस, उल्टी, हार्ट बर्न और अम्लीय डकार को दूर करने में मदद करता है। यह भूख बढ़ाता है और मतली से राहत दिलाने का काम करता है।
  • संतरे का छिलका कृमि का नाश करने वाला व बुखार को मिटाने वाला भी होता है। इसलिए इन सभी रोगों के रोगियों को संतरे का छिलका पीसकर खिलाने पर फायदा होता है।
  •  यदि आपके बाल एकदम रफ और बेजान दिखाई देते हैं तो संतरे के छिलके आपके लिए वरदान साबित हो सकते हैं। संतरे के छिलकों को पीसकर बालों में लगाकर कुछ देर रखें और फिर बाल धो लें। बाल चमकीले और मुलायम हो जाएंगे।
  •   संतरे के छिलकों को पीस कर उसमें गुलाब जल मिलाकर चेहरे पर लगाने से दाग व धब्बे मिटते हैं।
  • एक अध्ययन के अनुसार, यदि किसी व्यक्ति को कोलेस्ट्रॉल की प्रॉब्लम हो तो ऐसे में संतरे के छिलके उपयोगी साबित हो सकते हैं। www.allayurvedic.org
  •  ये कैंसर व हड्डियों की कमजोरी जैसी समस्याओं में भी विशेष रूप से लाभदायक है।
  •   नारंगी के छिलके में एक विशेष प्रकार की गंध वाला तेल पाया जाता है। इस तेल का उपयोग तंत्रिकाओं को शांत करने व गहरी नींद के लिए किया जाता है। नहाने के पानी में इसका दो से तीन बूंद तेल डालिए और फिर देखिए कितनी मीठी नींद आती है।

loading...
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch