Categories

काली मिर्च को मसालों की रानी ऐसे ही नही कहाँ जाता, क्योंकि ये है 17 रोगों का कारगर उपाय


  • मसालों की रानी या ब्लैक पेपर नाम से प्रचलित काली मिर्च भोजन में इस्तेमाल किए जाने वाले गर्म मसाले का अहम् हिस्सा है। काली मिर्च हमारे भोजन का स्वाद ही नहीं बढ़ाती, कई बीमारियों के इलाज में सहायक साबित होती है।
  • पाचन : काली मिर्च , काला नमक भुना हुआ जीरा और अजवाईन को पीस कर लस्सी या निम्बू पानी में डाल कर पीने से पाचन क्रिया दरुस्त रहती है। इस में केल्शियम , आइरन, फास्फोरस, कैरोटिन, थाईमन और रिथोफ्लेब्न जैसे पोष्टिक तत्व होते है। की गयी स्टडी के अनुसार काली मिर्च में बायो-एन्हंस्र नाम का रासायन होता है ,जिस की मौजूदगी में किसी भी दवाई का असर बढ़ जाता है तथा दवाई कम मात्रा में भी तेज असर करती है।
  • मसूड़ों  की कमजोरी : काली मिर्च मसूड़ों की कमजोरी दूर करने के लिए एक अनमोल रतन मानी जाती है। काली मिर्च , माज़ुफ्ल , सेंदा नमक तीनो को बराबर मात्रा में बारीक पीस कर चूरन बना लीजये और एस को अपने हथेली पे रख के तीन बूंद सरसों के तेल में मिला कर मसूड़ों और दांतों पर अच्छी तरह से लगाये और आधे घंटें के बाद कुरली करके मुह साफ़ करलें। आपके मसूड़ों की समस्या दूर हो जायेगी।
  • काली मिर्च को दिमाग की थकावट दूर करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है जेसे :
  1. एक चम्मच घी और 8 काली मिर्च और शकर को मिला कर रोजाना चाटने से याद शक्ति में सुधार होता है तथा दिमाग की कम्जोती दूर होती है।
  2. 15 काली मिर्चे , 2 बादाम की गिरीयां , 5 मुनकें , 2 छोटी इलाइची , एक गुलाब का फूल , आधा चमच खसखस को रात को एक वर्तन में डाल कर भिगो दे और सुबह को रगड़ कर 250 ग्राम दूध में मिला कर हर रोज लगातार कुछ महीने पिने से दिमाग में तरावट आयेगी और दिमाग की थकावट दूर हो जाएगी।
  3. 20 ग्राम काली मिर्च , 50 ग्राम बादाम 20 ग्राम तुलसी के पत्ते को एक साथ पीस कर चूरन बना ले और इस चूरन का एक चमच दो चमच शहद में मिला कर चाटने से दिमाग की ताकत में सुधार होता है।
  • खांसी तथा आवाज का बैठना : गले के बैठने में काली मिर्च का सेवन लाभकारी होता है और इस से मुह के छाले भी ठीक हो जाते है।
  1. दस काली मिर्चे चबा कर गरम पानी पी लीजये। इस प्रक्रिया को रोजना तीन बार करने से सर्दी के कारण सव्रभंग ठीक हो जाती है।
  2. चुटकी भर पीसी हुई काली मिर्च आधा चम्मच घी के साथ मिला कर खाना खाने के बाद चाटने से खांसी भी ठीक हो जाती है।
  • ब्लड प्रेशर को काबू करती है : ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने व शरीर को आराम देने में काली मिर्च बेहद फायदेमंद है। यदि आपका ब्लड प्रेशर बढ़ गया हो तो छोटी चम्मच काली मिर्च का पाउडर को आधे गिलास पानी में मिलाकर पीएं। आपका बीपी कंट्रोल होने लगेगा।
  • पेट में गैस व एसिडिटी : पेट में गैस या एसिडिटी की समस्या होने पर आप तुंरत नींबू में काला नमक और काली मिर्च का पाउडर या 2 दाने मिलाकर इसका रस चूसें। यह आपकी अपच व गैस की समस्या को पल भर में दूर कर देगी।
  • गठिया रोग में : जो लोग गठिया की समस्या से परेशान हैं वे तिल के गर्म तेल में काली मिर्च को डालकर उसे ठंडा कर लें और बाद में उस तेल से गठिया वाली जगह पर मालिश करें। एैसा करने से दर्द मे आराम मिलेगा।
  • पेट के कीड़े दूर करती है : 
  1. यदि पेट में कीड़े की समस्या हो तो थोड़ी सी मात्रा में काली मिर्च के पाउडर को एक गिलास छाछ में घोलकर पी लें।
  2. दूसरा उपाय है किशमिश के साथ काली मिर्च दिन में तीन बारी खाएं।
  • बवासीर में : बवासीर की समस्या से परेशान लोगों के लिए काली मिर्च किसी दवा से कम नहीं होती है। जीरा, चीनी और काली मिर्च के दानों को पीसकर चूरन बना लें और इस चूरन को सुबह और शाम तीन बारी खाएं। ये चूरन बवासीर की परेशानी को ठीक करता है। लेकिन इसके लिए आपको जंक फूड व आयली चीजों का सेवन बंद करना पड़ेगा।
  • कैंसर से बचाव के लिए : हाल ही में कैंसर पर किए गए एक शोध में ये बात सामनेआई है कि महिलाओं के लिए कालीमिर्च का सेवन बहुत लाभकारी होता है। कालीमिर्च में विटामिन सी, विटामिन ए, फ्लैवोनॉयड्स, कारोटेन्स और अन्य एंटी -ऑक्सीडेंट आदि तत्व भी पाए जाते है। कालीमिर्च ब्रेस्ट कैंसर को रोकने मेंमददगार होती है। यह त्वचा के कैंसर से भी शरीर की रक्षा करती है।
  • डिस्प्रेशन में भी फायदेमंद : कालीमिर्च के इस्तेमाल से शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन बनता है, जो अच्छे मूड के लिए जिम्मेदार होता है. सेरोटोनिन की मात्रा बढ़ने से डिप्रेशन में भी फायदा मिलता है. इसलिए अपने रोजमर्रा के खाने में काली मिर्च का इस्तेमाल करें और खुशमिजाज रहें।
  • अन्य फायदे :
  1. कफ , बलगम : 5 काली मिर्च , दस तुलसी के पत्ते पीसने के बाद शहद में मिला कर चाटने से बलगम तथा कफ से आराम मेले गा।
  2. कील और मुहांसे : 20 काली मिर्च , गुलाब जल में पीस कर रात को चेहरे पे लगाये और सुबह गरम पानी से धो लेने से कील और मुहांसे ठीक हो जायेगे।
  3. पेट में कीड़े : एक ग्राम काली मिर्च पीस कर लेने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते है।
  4. एसिडिटी : 5 काली मिर्च का चूरन बना कर 1-1 चमच पयाज और निम्बू का रस मिला कर पानी में डाल कर सुबह पीने से एसिडिटी से शूटकारा मिल जायेगा।
  5. भूख ना लगना : काली मिर्च, जीरा,सेंधा नमक , सूंढ़ और पीपल को एक समान मात्रा में के लर पीस लें और खाना खाने के बाद आधा आधा चमच दो बार लेने से भोजन अछी तरह पच जायेगा।
  6. पेट दर्द : 10 काली मिर्च पीस कर एक गिलास दूध में उबाल कर चीनी मिला कर पीने से पेट का दर्द ख़तम हो जाता है।
Thank you for visit our website

टिप्पणि Facebook

टिप्पण Google+

टिप्पणियाँ DISQUS

MOBILE TEST by GOOGLE launch VALIDATE AMP launch